breaking news New

लोगों को जागृत करना मुख्य उद्देश्य होना चाहिए - मनोज मंडावी

लोगों को जागृत करना मुख्य उद्देश्य होना चाहिए - मनोज मंडावी

क्षमता बढ़ाने गोदावरी माइंस कि जन सुनवाई  भानुप्रतापपुर में हुई

भानुप्रतापपुर, 9 जनवरी। छत्तीसगढ़ पर्यावरण संरक्षण मंडल द्वारा आज शनिवार को मेमर्स गोदावरी पॉवर एन्ड इस्पात लिनिटेड कच्चे द्वारा प्रस्तावित परियोजना लौह अयस्क की कुल उत्पादन क्षमता का विस्तार 1.405 एमटीपीए से 2.35 एमटीपीए ( 0.55   एमटीपीए बीएमक्यू समेत) 0.6 एमटीपीए क्षमता का बीएमक्यू बेनिफिकेशन प्लांट लगाने 2 एमटीपीए डोलर क्रशिंग प्लांट और 250 टीपीएच स्क्रीनिंग प्लांट की स्थापना के लिए जन सुनवाई जनपद पंचायत के सभागार में आयोजित की गई। 

जन सुनवाई के दौरान जनप्रतिनिधि मनोज सिंह मंडावी विधायक भानुप्रतापपुर, हेमंत ध्रुव अध्यक्ष जिला पंचायत कांकेर, पूर्ण चंद पाढ़ी अध्यक्ष प्रदेश युवा कांग्रेस, ब्रिजवत्ती मरकाम अध्यक्ष जनपद पंचायत, सुनाराम तेता उपाध्यक्ष जनपद पंचायत भानुप्रतापपुर वही प्रशानिक अपर कलेक्टर कांकेर श्री चेलक, पर्यावरण मंडल जगदलपुर के क्षेत्रीय अधिकारी एसडीएम भानुप्रतापपुर प्रेमलता मंडावी, एसडीओपी भानुप्रतापपुर अमोलक सिंह ढिल्लो ,कंपनी प्रबंधन,प्रभावित गांव के ग्रामीणों,व जनप्रतिनिधियों के उपस्थित में शुरूवात की गई।  


जन सुनवाई के दौरान कम्पनी के कर्मचारियों द्वारा किये जाने वाले कार्यो की विस्तारपूर्वक जानकारी देते हुये प्रभावित गांवों में दी जाने वाले सुविधाओं व विकास कार्यो का उल्लेख किया गया। जन सुनवाई के दौरान प्रभावित गांवों से आये ग्रामीणों ने कंपनी को अपना समर्थन दिया।

 क्या कहते है जनप्रतिनिधी 

इस अवसर पर विधायक ने कहा कि खनिज न्यास निधि का ज्यादा से ज्यादा उपयोग प्रभावित गांवों में किया जाना चाहिए ताकि उन क्षेत्रों का विकास हो सके। इनके अलावा प्रबंधन से कहा कि मंदिर सीसी रोड निर्माण तो ठीक है उससे पर लोगो को जागृत करना मुख्य उद्देश्य होना चाहिए। इनके अलावा हेमंत ध्रुव, पूर्ण चंद पाढ़ी, ब्रिजवत्ती मरकाम एवं सुनाराम तेता सभी ने कहा कि प्रभावित गांवों में बुनियादी सुविधाएं, खनिज न्यास निधि से अधिक से अधिक विकास, लालपानी से निज़ात, लोगों को रोजगार व पर्यावरण को बनाये रखने वृक्षारोपण व देखभाल किये जाने की बात कही।

 राजेश रंगारी ने उठाये कई मुद्दे 

एक मात्र राजेश रंगारी भानुप्रतापपुर के द्वारा इस जन सुनवाई स्थल का विरोध करते हुए कहा कि जन सुनवाई बफरजोन के अंदर होना चाहिए, गोदावरी माइंस भानुप्रतापपुर से 13 किमी है जो नियम विरुद्ध है। देखा जाए तो भानुप्रतापपुर नगर में कंपनी के जन सुनवाई होने से अधिकांश प्रभावित लोगों को जानकारी नही हो पाए। जन सुनवाई के दौरान सोसल डिस्टेंस का भी पालन नहीं किया।  कंपनी के द्वारा सेप्टीजॉन एवं राजस्व क्षेत्र में बिना स्वीकृति के डँम्प किये जाने का मामला उठाया गया वही रिकलिमेशन प्लान का पालन नही किये जाने व जल प्रदूषण वायु प्रदूषण मृदा प्रदूषण का भी मामला उठाया गया। जिसका संतोषप्रद जवाब कंपनी के द्वारा नहीं दिया गया।

जनसुनवाई के दौरान कोई अप्रिय घटना न हो इसके लिए भी थाना प्रभारी शशिकाल उइके व भारी संख्या में पुलिस के जवान मौजूद रहे।