breaking news New

शिक्षा विभाग में फर्जीवाड़ा : पूर्व से पदस्थ प्राचार्य को हटाया ही नहीं, दूसरे की पोस्टिंग कर दिया

शिक्षा विभाग में फर्जीवाड़ा : पूर्व से पदस्थ प्राचार्य को हटाया ही नहीं, दूसरे की पोस्टिंग कर दिया

राजनांदगांव। शिक्षा विभाग में फर्जीवाड़ा रूकने का नाम नहीं ले रहा है। ट्रांसफर पोस्टिंग को लेकर विवाद और बढ़ने जा रहा है, क्योंकि शासकीय उच्चतर माध्यमिक शाला, मोहला जो अब स्वामी आत्मानंद अंग्रेजी माध्यम स्कूल बन चुका है, उसमें अब दो प्राचार्य की पोस्टिंग हो चुकी है।

इस स्कूल में पूर्व से ही अर्जुन देवांगन को प्राचार्य के पद पर राज्य सरकार ने पोस्टिंग किया था और अब इसी स्कूल में एक और प्रभारी प्राचार्य सईद कुरैशी व्याख्याता को राज्य सरकार ने पोस्टिंग कर दिया गया है, जिससे अब विवाद उत्पन्न हो गया है, क्योंकि पूर्व में पदस्थ प्राचार्य को हटाया ही नहीं गया।

जानकार बताते है कि नियमानुसार व्याख्याता (एलबी) को प्राचार्य नहीं बनाया जा सकता हैं। फिर भी उन्हें नियम विरूद्ध प्रभारी प्राचार्य बना दिया गया। इस प्रकार की गलती छुरिया स्वामी आत्मानंद अंग्रेजी माध्यम के स्कूल में भी कर दिया गया, वहां भी नियमित प्राचार्य को बिना हटाए एक कनिष्ठ व्याख्याता (एलबी) को प्रभारी प्राचार्य बना दिया गया।

बताया जा रहा है कि अर्जुन देवांगन जब विकासखंड शिक्षा अधिकारी, अंबागढ़ चौकी के पद पर पदस्थ थे तो उन्हें अचानक नियम विरुद्ध आदेश देकर हटा दिया गया था, जिससे विवाद उत्पन्न हो गया था और मामला कोर्ट तक पंहुच गया था और कोर्ट के हस्ताक्षेप के पश्चात उन्हें शासकीय उच्चतर माध्यमिक शाला, मोहला के प्राचार्य के पद पर पदस्थ कर दिया गया और अब उन्हें बिना हटाये एक प्रभारी प्राचार्य की उसी स्कूल में पोस्टिंग कर दिया गया, जिससे अब पुनः विवाद उत्पन्न हो गया है।

शासकीय उच्चतर माध्यमिक शाला, मोहला जो अब स्वामी आत्मानंद अंग्रेजी माध्यम स्कूल बना दिया गया है तो उस स्कूल में अब दो प्राचार्य हो गए है। इसके लिए जिम्मेदार कौन है, क्योंकि राज्य सरकार को इसकी जानकारी जिला शिक्षा अधिकारी राजनांदगांव से ही भेजा गया होगा, क्योंकि अर्जुन देवांगन ने तो स्वामी आत्मानंद स्कूल, मोहला का प्राचार्य होने के लिए अपनी सहमति दो माह पूर्व ही जिला शिक्षा अधिकारी को दे दिया था।

जिला शिक्षा अधिकारी राजनांदगांव बार-बार गलतियां कर रहे है और ट्रांसफर पोस्टिंग को लेकर विभाग की लगातार किरकिरी हो रही है, अब इस प्रकरण में भी हंगामा होना तय माना जा रहा है।