लॉकडाउन समय बढ़ाने के निर्णय का सभी ने किया स्वागत, किसान आदिवासी मजदूरों के लिये छूट आवश्यक

लॉकडाउन समय बढ़ाने के निर्णय का सभी ने किया स्वागत, किसान आदिवासी मजदूरों के लिये छूट आवश्यक

संजय जैन

धमतरी, 14 अप्रैल ।   कोरोना कोविड-19 को लेकर देश के प्रधानमंत्री द्वारा समय समय पर देशवासियों को दिये संबोधन में उनसे संयम बरतने और लॉकडाउन के चलते दूरियां बनाकर कार्य करने जैसी अपील का अक्षरश: पालन छत्तीसगढ़ में हो रहा है। संबोधन की कड़ी में 14 अप्रेल को प्रात: दिये गये अपने संबोधन में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा लॉकडाउन की तिथी 3 मई तक बढ़ाने के निर्णय का सभी वर्गों ने स्वागत किया है। एक ओर जहां भाजपा के नेताओं ने इसे देशहित की घोषणा निरूपित किया है वहीं दूसरी ओर कांग्रेस के नेताओं ने भी इस निर्णय का स्वागत किया है परंतु इन्होंने कहा है कि आदिवासी इलाकों में वनोपज की खरीदी नहीं होने से उसका ग्राफ लगातार गिर रहा है। इसी तरह रबी फसल की कटाई को लेकर भी ऐसे जिलों को चिन्हित कर छूट दी जानी चाहिये जहां कोविड-19 ने अपना पांव नहीं पसारा है। साथ ही उपरोक्त क्षेत्रों में किसानों एवं आदिवासियों को व्यवसाय करने की छूट दी जानी चाहिये।

जिले के तेज-तर्रार नेता पूर्व विधायक इंदर चोपड़ा ने कहा कि देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा आज अपने संबोधन में देश की जनता को कोरोना कोविड-19 से बचाने के लिये जो कदम उठाया गया है, और लॉकडाउन को 3 मई तक बढ़ाने का निर्णय लिया गया है, उसकी जितनी तारीफ की जाये वह कम है क्योंकि जिस प्रकार विभिन्न देशों में इस महामारी से हजारों लोग काल-कलवित हुए हैं और लगातार यह वायरस लोगों के लिये दहशत का सबब बना हुआ है, इसे देखते हुए पूर्व से देश के प्रधानमंत्री ने जो व्यवस्था की है, उसी का यह परिणाम है कि आज हमारे देश में कोरोना कोविड-19 के संक्रमण से देश के अधिकांश लोग सुरक्षित हैं और उन्हें आगे भी इसका पालन करने से इस महामारी से वे सुरक्षित रह सकते हैं। भाजपा जिलाध्यक्ष शशि पवार ने भी देश के प्रधानमंत्री द्वारा की गई घोषणा का स्वागत करते हुए कहा है कि यह समय देश के प्रधानमंत्री के घोषणा के साथ साथ उनके द्वारा की गई अपील का अक्षरश: पालन करने का है। यही कारण है कि आज हमारे प्रधानमंत्री के सतर्कता से समूचे देश में इस प्रकार महामारी नहीं फैली, जैसा कि विदेशों की खबरों के अनुसार लोगों को जानकारी मिल रही है। इसी तरह पूर्व जिलाध्यक्ष समाजसेवी रामू रोहरा ने भी कहा कि प्रधानमंत्री के द्वारा जो अपीलें समय समय पर की हैं, उसी का ही परिणाम है कि आज देश की जनता सुरक्षित है। 3 मई तक जो लॉकडाउन का समय बढ़ाया गया है, यह निर्णय स्वागत योग्य है।

भाजपा के जिला प्रवक्ता कविंद्र जैन ने कहा कि यह समय बहुत ही संकट के दौर से गुजर रहा है जहां आम आदमी परेशान हाल है किंतु उनकी परेशानी का हल भी करने के लिये देश के प्रधानमंत्री पूरी तरह देश के प्रत्येक नागरिकों की सेवा मे समर्पित रहकर अपीलें कर रहे हैं। जिला भाजपा महिला मोर्चा अध्यक्ष हेमलता शर्मा ने कहा कि प्रधानमंत्री द्वारा लॉकडाउन की अवधि बढ़ाया जाना इस बात की ओर इंगित करता है कि अभी देश से कोविड-19 का खतरा कम नहीं हुआ है, इसीलिये उन्होंने समय को आगे बढ़ाया है। भाजपा वरिष्ठ नेत्री पार्वती वाधवानी ने कहा कि समूचे विश्व में जिस तरह हाहाकार मचा हुआ है, उससे यह प्रतीत होता है कि यह वायरस कितना खतरनाक है। फिर भी इस महामारी से बचने के लिये हमारे प्रधानमंत्री ने जो देश की जनता के नाम संबोधन देकर उन्हें इस महामारी से बचाने का जो विकल्प बताया है, उसी का असर है कि आज यह महामारी भारत देश में विकराल रूप में नहीं फैल पाई है। भाजपा नेत्री सुमिता पंजवानी ने कहा है कि इस समय हमारे पास देश के प्रधानमंत्री श्री मोदी के अपील को नजरअंदाज करने का नहीं बल्कि पालन करने का है। उनकी अपीलों पर जो पालन किया गया है, उससे ही आज देश, छत्तीसगढ़ सुरक्षित रहा है। वहीं बिथिका विश्वास ने कहा कि कोरोना वायरस से बचाव का जो तरीका प्रधानमंत्री श्री मोदी ने बताया है, उसका पालन करने से ही आज देश सुरक्षित है। जैसा अन्य देशों में लगातार मौतें हुई हैं उसकी अपेक्षा हमारे देश में यह आंकड़ा बहुत कम प्रकाश में आये हैं। नगरी के राजेंद्र गोलछा ने प्रधानमंत्री के अपील का पालन करने के सिवाय और कोई रास्ता नहीं बचता है क्योंकि यह महामारी का ईलाज सिर्फ और सिर्फ लॉकडाउन का पालन करने से ही हो सकता है।

इधर जिला कांग्रेस कमेटी के नवनियुक्त अध्यक्ष शरद लोहाना ने कहा कि देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा लॉकडाउन का जो समय 3 मई तक बढ़ाया है वह स्वागत योग्य है। लेकिन उनके द्वारा इस बात पर भी ध्यान दिया जाना चाहिये था कि छत्तीसगढ़ में एक ओर पूरी तरह आश्रित आदिवासी वर्ग के लोग महुआ, वनोपज की खरीद-फरोख्त पूरी तरह प्रतिबंधित हो चुकी है। कोई भी व्यवसायी महुआ की खरीदी करने तैयार नहीं है जिसका मुख्य कारण परिवहन है। इसी वजह से आदिवासी भाईयों की उपज औने-पौने दाम में खरीदकर उनका शोषण किया जा रहा है। इसी तरह रबी फसल के सीजन में फसल कटाई का रहता है। इसे देखते हुए इस लॉकडाउन को ऐसे क्षेत्रों में कुछ समय के लिये छूट दिया जाना चाहिये था। हमारे प्रदेश के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल पूर्व से लॉकडाउन के साथ साथ समूचे प्रदेश में धारा 144 लागू कर प्रधानमंत्री के अपीलों पर लगातार पालन कराने में लगे हुए हैं। लेकिन किसानों की फसल कटाई तथा आदिवासी क्षेत्रों में वनोपज की खरीदी-बिक्री न होने से जो कठिनाईयां आ रही है उसे लेकर वे चिंतित हैं। नगर पालिक निगम धमतरी के महापौर विजय देवांगन ने कहा कि देश के प्रधानमंत्री ने जो निर्णय लिया है वह सहीं हैं परंतु छत्तीसगढ़ के संवेदनशील मुख्यमंत्री भूपेश बघेल इस महामारी को रोकने के लिये काफी सजग हैं। यही कारण है कि प्रदेश में इसके मामले कम सामने आये हैं। श्री देवांगन ने यह भी कहा कि छत्तीसगढ़ के जिन जिलों में कोरोना के मरीज नहीं पाये गये हैं वहां मजदूर, किसानों के हित में उन्हें लॉकडाउन से छूट दिया जाना चाहिये और जहां मरीज पाये जाते हैं उन्हें पूर्णत: सील कर दिया जाना चाहिये। प्रदेश में धान की फसल पककर तैयार है। किसान आज इसे लेकर काफी चिंतित हैं क्योंकि देश में लॉकडाउन का पालन सभी के लिये जरूरी है। ऐसे समय में इसमें छूट न मिलने से किसानों की उपज की बिक्री कैसे हो पायेगी।

छग प्रदेश कांग्रेस कमेटी के पूर्व सचिव एवं पूर्व विधायक हर्षद मेहता ने कहा कि देश के लिये यह समय बहुत ही घातक है। जहां प्रत्येक व्यक्ति को बचाना बहुत ही जरूरी है। इसे लेकर देश के प्रधानमंत्री ने जो लॉकडाउन का समय बढ़ाने का निर्णय लिया है वह सहीं है। लेकिन हमारे प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री बघेल ने शुरू से ही कोरोना वायरस की महामारी न फैले इसे लेकर बहुत बेहतरीन इंतजाम किये थे। ऊपर से देश के प्रधानमंत्री द्वारा की गई अपील का भी उन्हेांने पालन करवाया है जिसके कारण ही यह देश और प्रदेश कोरोना वायरस से उतना प्रभावित नहीं हुआ जितना विभिन्न देशों से मिल रहा है। निगम के स्पीकर अनुराग मसीह ने कहा कि यह समय किसी टीका-टिप्पणी का नहीं अपितु मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के द्वारा की गई अपील का हो अथवा देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अपील का हो, सभी ने अपने देश और प्रदेशवासियों के लिये जो व्यवस्थाएं की है वह नि:संदेह स्वागत योग्य है। पूर्व जिला कांग्रेस अध्यक्ष मोहन लालवानी ने कहा कि देश के प्रधानमंत्री द्वारा 3 मई 2020 तक लॉकडाउन तिथि बढ़ाये जाने से इस बात का आभास होता है कि खतरा अभी टला नहीं है। इसी के लिये आमजनों की सुरक्षा हेतु लॉकडाउन का पालन अति आवश्यक है और वैसे भी हमारे प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री बघेल द्वारा की गई सुरक्षा व्यवस्था और स्वास्थ्य मंत्री टी एस सिंहदेव के द्वारा समय समय पर स्वास्थ्य लाभ हेतु की जा रही व्यवस्था का ही यह असर है कि अभी तक वायरस से कुछ लोग संक्रमित पाये गये हैं और यह महामारी पूरी तरह छत्तीसगढ में अपना पैर पसार पाने में विफल रही है। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता राजेंद्र लुंकड़ ने भी श्री मोदी के द्वारा लॉकडाउन की तिथि बढ़ाये जाने का स्वागत करते हुए कहा कि यह देश की जनता के हित में है। उन्होंने प्रदेश के मुख्यमंत्री के द्वारा शुरू से की गई व्यवस्था पर भी प्रसन्नता व्यक्त की। श्री लुंकड़ ने यह भी कहा कि छत्तीसगढ़ के जिन जिलों में कोरोना पॉजिटिव नहीं पाये गये हैं, उन जिलों में किसान, मजदूरों को लॉकडाउन से छूट दिया जाना चाहिये क्योंकि रबी की फसल लगभग तैयार हो चुकी है।  वरिष्ठ कांग्रेस नेता एवं एल्डरमेन देवेंद्र जैन ने लॉकडाउन की तिथिी बढ़ाने के निर्णय को उचित ठहराते हुए कहा कि छत्तीसगढ़ के संवेदनशील मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कोरोना महामारी को रोकने दृढ संकल्पित है। यही कारण है कि आज प्रदेश में 10 लोग इस बिमारी से ठीक हो चुके हैं। श्री जैन ने यह भी कहा कि धमतरी सहित जिन जिलों में कोरोना पॉजिटिव मरीज नहीं पाये गये हैं वहां किसान, मजदूरों को लॉकडाउन से छूट दिये जाने की आवश्यकता है। वरिष्ठ कांग्रेस नेत्री सूर्यप्रभा चेटियार ने देश में लॉकडाउन तिथि बढ़ाये जाने के निर्णय को उचित बताते हुए कहा कि कोरोना महामारी से लडऩे के लिये सोशल डिस्टेंसिंग ही एकमात्र उपाय है। उन्होंने प्रदेश के यशस्वी मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की तारीफ करते हुए कहा कि मुख्यमंत्री के कुशल नेतृत्व के चलते ही आज प्रदेश में कोरोना मरीजों की संख्या काफी कम है। उन्होंने यह भी कहा कि छत्तीसगढ़ के अधिकांश जिलों में कोरोना के कोई मरीज नहीं पाये गये हैं, ऐसी स्थिति में किसान, मजदूरों को लॉकडाउन में छूट देना चाहिये क्योंकि ऐसे लोगों को काफी कठिनाईयों का सामना करना पड़ रहा है। जिला महिला कांग्रेस अध्यक्ष नम्रता माला पवार ने कहा कि लॉकडाउन तिथि बढ़ाये जाने का निर्णय तो स्वागत योग्य है। लेकिन लॉकडाउन में आम नागरिक जैसे गरीब मजदूर, किसान के हितों की भी अनदेखी करना ठीक नहीं है। उन्होंने प्रदेश के यशस्वी मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की तारीफ करते हुए कहा कि उनके नेतृत्व में छत्तीसगढ़ इस महामारी से काफी हद तक नियंत्रण में है।