breaking news New

पुलिस अकादमी चंदखुरी में चाईल्ड प्रोटेक्शन एण्ड ट्रेनिंग आफ मास्टर ट्रेनर्स की कार्यशाला, नए विशेषज्ञ तैयार कर रही है पुलिस अकादमी : जी पी सिंग

पुलिस अकादमी चंदखुरी में चाईल्ड प्रोटेक्शन एण्ड ट्रेनिंग आफ मास्टर ट्रेनर्स की कार्यशाला, नए विशेषज्ञ तैयार कर रही है पुलिस अकादमी : जी पी सिंग

जनधारा समाचार
रायपुर. राज्य पुलिस अकादमी चंदखुरी में इन दिनों पांच दिवसीय चाईल्ड प्रोटेक्शन एण्ड ट्रेनिंग आफ मास्टर ट्रेनर्स की आनलाइन कार्यशाला चल रही है जिसमें 40 पुलिस अधिकारियों को मास्टर ट्रेनर्स के रूप में और 81 डीएसपी ने प्रेक्षक के रूप में भाग लिया. उम्मीद जताई जा रही है कि प्रशिक्षण से पुलिस इकाईयों में बाल संरक्षण अधिकार और कानून के प्रति समझ और जागरूकता को बढ़ावा मिलेगा.


कल तक चलने वाली पांच दिवसीय प्रशिक्षण कार्यशाला, यूनिसेफ के सहयोग से की जा रही है. जिसका उदघाटन राज्य पुलिस अकादमी चंदखुरी के निदेशक, आइपीएस जी.पी. सिंह तथा चीफ आफ यूनिसेफ जांब जकारिया द्वारा किया गया. उन्होंने उम्मीद जताई कि चाईल्ड प्रोटेक्शन पर आयोजित हो रही यह कार्यशाला, छत्तीसगढ़ पुलिस की कार्यक्षमता में वृद्धि होने में मददगार होगी साथ ही पुलिस अधिकारी बाल संरक्षण से जुड़ी पुलिस की भूमिका, जिम्मेदारी, कानून और नीतियों को गहराई के साथ समझ सकेंगे ताकि भविष्य में इसका सदुपयोग किया जा सके. यह कार्यशाला समय—समय पर आयोजित की जाएगी.

यूनिसेफ की अधिकारी प्रियंका ने बताया कि इस आनर्लाइन प्रशिक्षण कार्यक्रम में कुल 60 माॅड्यूल हैं, जिनमें से अभी 4 माॅड्यूल पर ट्रेनिंग कराई जा रही है। निर्धारित अंतराल में अगले 1 वर्ष में शेष 56 माॅड्यूल का प्रशिक्षण कार्य पूरा कराया जाएगा। यह ध्यान देने योग्य बात है कि देश में पहली बार राज्य पुलिस अकादमी ने बाल संरक्षण के क्षेत्र में यह पहल की है और इतने बड़े स्तर पर मास्टर ट्रेनर तैयार किए जा रहे हैं.

कार्यशाला में प्रशिक्षण उपरांत प्रतिभागियों ने अपने अनुभव भी साझा किए. अकादमी के निदेशक जी.पी. सिंह ने समाज में पुलिस की भूमिका फस्ट रिस्पांडर के रूप में होना एवं मास्टर ट्रेनर्स बनाये जाने की आवश्यकता पर बल देते हुए पुलिस अधिकारियों को कानून व्यवस्था बनाये रखने हेतु आवश्यक सुझाव भी दिए. उद्घाटन सत्र में अति. पुलिस अधीक्षक डाॅ. संगीता पीटर्स, उप पुलिस अधीक्षक रूपा खेस, एडीपीओ संतोष राय, सोहन साहू, बाल संरक्षण स्पेशलिस्ट युनिसेफ चेतना देसाई तथा समस्त अकादमी स्टाफ उपस्थित रहे।