breaking news New

काला कानून वापस ले केन्द्र सरकार, किसानों के साथ अत्याचार बर्दाश्त नहीं -हरेश चक्रधारी

 काला कानून वापस ले केन्द्र सरकार, किसानों के साथ अत्याचार बर्दाश्त नहीं   -हरेश चक्रधारी

भानुप्रतापपुर। केंद्र की भाजपा सरकार द्वारा देश में लागू किए गए नए कृषि कानून की आम आदमी पार्टी ने पुरजोर विरोध किया है।पार्टी कार्यकर्ताओं ने अनुविभागीय अधिकारी(रा.)भानुप्रतापपुर को महामहिम राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद जी के नाम ज्ञापन सौंपकर केंद्र सरकार की कृषि कानून वापस लेने की मांग की है।

पार्टी के जिलाध्यक्ष हरेश चक्रधारी ने बताया कि केंद्र की भाजपा सरकार ने देश में जो कानून बनाया है वह पूरी तरह किसान विरोधी है।इस कानून में कृषि उपजों के लिए न्यूनतम समर्थन मूल्य का प्रावधान ही नहीं है।पूंजीपतियों व जमाखोरों को बढ़ावा देने के मकसद से बनाई गई इस कानून के लागू होने से देश के अन्नदाता किसानों के साथ अन्याय होगा।जो कि देश के किसानों को बर्दाश्त नहीं है।किसान विरोधी काला कानून सरकार को जल्द वापस लेनी चाहिए।

आम आदमी पार्टी नेता लकेश्वर कोमरा ने कहा कि कृषि कानून को लेकर कांग्रेस पार्टी भी दोहरी नीति अपना रही है जो कि गलत है।उन्होंने कहा कि पंजाब के कांग्रेसी मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने किसान विरोधी कानून बनाने में केंद्र सरकार की मदद की है,जबकि किसान हित में सभी विपक्षी दलों को किसानों के साथ खड़ा होना चाहिए।

युवा नेता रोहित केमरो ने कहा कि आम आदमी पार्टी दिल्ली में चल रहे किसान आंदोलन का पुरजोर समर्थन करता है।केंद्र सरकार आंदोलनकारी किसानों को जेल भेजने की तैयारी कर रही थी,जिसे दिल्ली की आम आदमी पार्टी सरकार ने अस्वीकार कर दिया है।उन्होंने कहा कि आम आदमी पार्टी किसानों के साथ खड़ी है,किसानों के साथ अन्याय आम आदमी पार्टी स्वीकार नहीं कर सकता।  इस अवसर पर आम आदमी पार्टी नेता दिनेश पटेल,सुन्दर लाल दुग्गा,विष्णु उइके,सुधीर गावड़े हेमन्त हिड़को, कमलेश कोमरा,तुलाराम कोमरा,कमलेश आचला,तुलसी कड़ियाम आदि उपस्थित थे।