breaking news New

दिवाली त्योहार पर गोबर से निर्मित दिए व अन्य सामग्री सस्ते मूल्य पर होगा उपलब्ध

दिवाली त्योहार पर गोबर से निर्मित दिए व अन्य सामग्री सस्ते मूल्य पर होगा उपलब्ध

गोधन न्याय योजना हो रहा साकार

चांपा, 4 नवंबर। कुछ माह पहले छत्तीसगढ़ शासन के गोधन न्याय योजना को अमलीजामा पहनाए जाने के बाद चांपा नगर पालिका के द्वारा किसान गों पालक तथा आम जनता से ₹2 के किलो दर पर गोबर खरीद कर उसे सहेजा गया था और अब उसी सहेजे गए गोबर से  दिए और कंडो को सस्ते मूल्य में बेचने का योजना लेकर प्रशासन अब लोगों के बीच पहुंचने जा रहा है। 


गौरतलब है कि लगभग 3 माह पहले छत्तीसगढ़ शासन के आदेशानुसार गोधन न्याय योजना को समस्त नगरपालिका क्षेत्रों में संचालित किया जा रहा है जिसमें किसान पशु पालक तथा आम जनता से दो रुपए किलो के दर से गोबर को खरीदा जा रहा था जिसे योजना अनुसार सहेज कर उक्त गोबर को विभिन्न प्रकार से इस्तेमाल करते हुए उसे जनोपयोगी सामग्रियों का निर्माण कराया जा रहा था अब दिवाली त्योहार के मद्देनजर शासन के आदेश अनुसार गोधन सामग्री काउंटर का स्थापना किया गया है जहां सस्ते मूल्य में गोबर से बने हुए दिए गोबर खाद तथा कंडे सस्ते मूल्य पर लोगों को प्रदान किया जाएगा यही नहीं गोधन समाधि काउंटर के माध्यम से  गोबर और मिट्टी से बने हुए दिए एवं इसी प्रकार के गोबर निर्मित अन्य जरूरी जनोपयोगी सामग्रियों को लेकर काउंटर के माध्यम से लोगों को उपलब्ध कराया जाएगा जो कि एक सशक्त क़दम है गौ रक्षा से महिला सशक्तिकरण की ओर जिसकी आज कोविड-19 के दौर में महत्वपूर्ण योजना के रूप में देखा जा रहा है इसमें जहां निरीह पशु गाय बैल भैंस आदि का बेहतर ढंग से लोगों के द्वारा देखभाल किया जा सकता है वहीं प्राप्त गोबर को गरीब व असहाय लोग कुछ पैसे भी कमा सकते हैं साथ ही इससे महिला सशक्तिकरण की ओर बढ़ता हुआ कदम के रूप में देखा जा रहा है जो अपने आप में एक महत्वपूर्ण योजना है जिसे साकार करने के लिए छत्तीसगढ़ शासन के द्वारा कुछ माह पहले योजना बनाकर इसे अमलीजामा बनाया गया था और अब इसका सकारात्मक पहलू सामने आ रहा है दिवाली पास आते ही लोगों को दिए तथा गोबर निर्मित कंडो की सख्त जरूरत पड़ती है और यदि गोबर और मिट्टी से बना हुआ चित्रकारी रंग रोगन लगा दीए जनता को उपलब्ध कराए जाने से लोगों के बीच कौतू हल का विषय बनेगा साथ ही कलाकारी के साथ निर्माण कार्य में लगे हुए मजदूरों को भी आर्थिक मदद मिल सकेगी।