breaking news New

20 सूत्रीय मांगों को लेकर सर्वआदिवासी समाज ने किया आर्थिक नाकेबंदी

 20 सूत्रीय मांगों को लेकर सर्वआदिवासी समाज ने किया आर्थिक नाकेबंदी

आदिवासी समाज का दूसरा गुट समाज के आड़ में 2023 का चुनाव लडने का लगाया आरोप 

बीजापुर ।  जिले के भोपालपटनम में सर्व आदिवासी समाज ने आर्थिक नाकेबंदी के एलान के बाद आज सुबह राष्ट्रीय राजमार्ग को जाम करते हुए राज्यपाल के नाम तहसीलदार को ज्ञापन सौंपा। इस दौरान भोपालपटनम के आदिवासी नेताओ ने कहा कि इससे पहले भी लगातार धरने प्रदर्शन करते हुए अपनी मांगों को लेकर कई बार ज्ञापन दिया गया लेकिन एक भी मांग पूरी नही हुई अब समाज बाध्य होकर आर्थिक नाकेबंदी के माध्यम से आदिवासियों के सवैधानिक अधिकारों, हकों एंव ज्वलंत समस्याओं के समाधान के लिये ज्ञापन सौंप रहा है। 

सर्व आदिवासी समाज की आर्थिक नाकेबंदी की मुख्य मांग इस प्रकार हैं, सिलगेर में मारे गए निर्दोष ग्रामीणों के परिजनों को 50 लाख एंव परिजन को सरकारी नोकरी ओर घायलों को 05 लाख दे सरकार। नक्सल समस्या पर सभी पक्षो में समन्वय स्थापित कर स्थायी समाधान निकाला जावे। शासकीय नौकरी में बैकलॉग एंव नई भर्तियों में आरक्षण रोस्टर के अनुसार किया जावे। पांचवीं अनुसूची क्षेत्र में मूल निवासियों को शत प्रतिशत आरक्षण दिया जावे। क्षेत्र में खनिज उत्खनन में ग्राम सभाओं को मिले पूरे अधिकार का पालन किया जावे। फर्जी जाती प्रमाण पत्र में दोषियों पर शीघ्र कार्यवाही हो। छात्रवृत्ति में आदिवासी छात्रों को 2.50 लाख की पात्रता सीमा समाप्त की जाए। वन अधिकार कानून एंव पेसा कानून का कड़ाई से पालन किया जाए। आदिवासी उत्पीडऩ मामलों में कड़ाई से पालन किया जाए। नक्सलियों के नाम से जेलों में बन्द निर्दोषों को तत्काल रिहा किया जाए। नियम विरुद्ध नगर पंचायत बनाये गए गांवों को वापस ग्राम पंचायत में तब्दील किया जाए। कुटरू में कालेज खोला जाए। बन्द पड़े आश्रम-स्कूलों और सोसायटी को तत्काल चालू किया जाए। देवगुडियो का सरंक्षण करते हुए चार दिवारी का निर्माण किया जाए। समस्त आदिवासी ग्रामो में घोटूल का निर्माण किया जाए। आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं, सहायिका एंव संविदा कर्मचारियों, दैनिक वेतनभोगी कर्मचारियों को नियमित किय्या जाए। इस दौरान भोपालपटनम ब्लाक के सर्व आदिवासी समाज के कार्यकर्ताओं ने अपनी मांगों को लेकर नेशनल हाइवे जाम किया, जाम के चलते सड़क के दोनों तरफ बड़े वाहनों की कतारे लग गई, तहसीलदार को ज्ञापन देने के पश्चात आवागमन बहाल हो गया है। 

वहीं दूसरी ओर आदिवासी समाज का दूसरा गुट छग. सर्व आदिवासी समाज के प्रांतीय अध्यक्ष भारत सिंह ने रविवार को प्रेस विज्ञप्ति जारी कर आर्थिक नाकेबंदी करने की खबर को खंडन करते हुए कहा कि कुछ राजनीतिक महत्वाकांक्षी लोग जो अवैधानिक तरीके से अपने आप को सर्व आदिवासी समाज के स्वमभू अध्यक्ष, कार्यकारी अध्यक्ष, सचिव घोषित कर समाज को गुमराह करने का आरोप लगाते हुए समाज को ऐसे लोगों से सचेत रहने के लिए अपील करते हुए समाज के खर्चे और समाज के आड़ में 2023 का चुनाव लडने का आरोप लगाया है।