breaking news New

वायरल वीडियोः गीदम में जोरों से चल रहा सट्टे का कारोबार , ऑनलाइन चकरी, लाखों के दांव लग रहे हैं

वायरल वीडियोः  गीदम में जोरों से चल रहा सट्टे का कारोबार , ऑनलाइन चकरी, लाखों के दांव लग रहे हैं


70 से 90 हजार रुपये की मोटी रकम लेन-देन की बात आम चर्चाओ में सट्टे के खेल में पुलिस की भूमिका संदेह के घेरे में

दंतेवाड़ा, 21 दिसंबर। दंतेवाड़ा जिले के व्यावसायिक दंतेवाड़ा गीदम में जोरों से चल रहा जुआ सट्टे का कारोबार और नगर में चल रहे इस सट्टे के कारोबार की गूंज पूरे जिले में सुनाई दे रही है।

जिसका नजारा आए दिन बस स्टैंड के कुछ चुनिंदा दुकानों में देखा जा सकता है अब या खेल ऑनलाइन एंड्रॉयड फोन में खेले जाने लगा है जिसके कारण सटोरिए पुलिस के हत्थे नहीं चढ़ पा रहा है और युवा पीढ़ी इसकी गिरफ्त में बर्बाद हो रही है। 

गीदम नगर में पिछले दिनों पुलिस द्वारा सटोरियो को पकड़ने की मामला सामने आया था। और उन पर खानापूर्ति के नाम पर कार्यवाही भी की गयी थी। लेकिन उस खानापूर्ति की कार्यवाही के बाद सट्टे का बाजार और तेजी से गरमा गया है। नगर में चल जुये सट्टे के कारोबार को लेकर वार्ड क्रमांक चार के पार्षद प्रतिनिधि नंदू सुराना ने इस पर अपना विरोध लगातार जताते रहे हैं। नंदू सुराना ने बताया कि जुए सट्टे के विरोध को लेकर उन्हें जान से मारने की धमकी भी सटोरियों द्वारा मिली है। 

नंदू सुराना ने कहा कि इस बात से अंदाजा लगाया जा सकता है कि नगर में सट्टा खिलाने वाले सटोरियों के हौसले कितने बुलंद है। सूत्रों की माने तो सट्टे के इस खेल में बड़े लेन-देन की बातें सामने आ रही है। नंदू सुराना ने आरोप लगाया कि नगर का पुलिस प्रशासन भी जुआ सट्टा खिलाने वाले लोगों से मिला हुआ है। और जब कोई जनप्रतिनिधि इस बुराई का विरोध करता है तो उसे जान से मारने की धमकी मिलती है। तो आम आदमी की स्थिति का अंदाजा लगाया जा सकता है। साथ ही यह भी अंदाजा लगाया जा सकता है कि इन सटोरियों की कितनी गहरी पैठ है। और वे अपने खेल को चलाने के लिये लाखों का लेनदेन करते हैं। 

नगर में प्रतिदिन 5 से 10 लाख रुपये के सट्टे का बाजार होने का अनुमान लगाया जा रहा है । इसमें खाईवाल का कमीशन 10 प्रतिशत बताया जा रहा है। अपने इस कमीशन और मुनाफे के लिये सटोरी बड़े-बड़े दाव लगाते हैं। और अपने इस मुनाफे के लिये यह जनप्रतिनिधि या किसी की भी उठती आवाज को दबाने की कोशिश करते हैं। पर इस बार सटोरियों का दांव उल्टा पड़ता नजर आ रहा है। 

नंदू सुराना ने इस बार नगर में फैली जुये सट्टे की बुराई के खिलाफ मुहिम छेड़ दी है। और अब देखने वाली बात है कि पुलिस प्रशासन उनका किस हद तक साथ देती हैं और इस मामले में क्या कार्यवाही करती है। जानकारों की माने तो यह खेल नगर में लंबे समय से चला रहा है। विगत दो वर्ष पूर्व में कुछ लगाम लगायी गई थी। लेकिन वर्तमान में फिर से सटोरियो द्वारा अपना खेल बेखौफ खेला जा रहा है। जिसमे पुलिस प्रशासन की भूमिका भी संदेह के घेरे में नजर आ रही हैं।70 से 90 हजार रुपये की मोटी रकम लेन-देन की बात आम चर्चाओ में है।