छत्तीसगढ़ के 20 मजदूरों का परिवार फंसा हैदराबाद में, मदद के लिए लगाईं गुहार

छत्तीसगढ़ के 20 मजदूरों का परिवार फंसा हैदराबाद में, मदद के लिए लगाईं गुहार


रायपुर। कोरोना महामारी से रोकथाम के लिए पुरे  देश में लॉकडाउन किया गया है। प्रदेश के  बेमेतरा और बलौदाबाजार जिले के मजदूरों का परिवार हैदराबाद  में फंसा हुआ है।  गांव के लगभग 20 मजदूर परिवार काम करने हैदराबाद गए थे। लॉकडाउन की वजह से ये वहां फंस गए हैं। परिवहन की सुविधा नहीं होने के कारण ये बाहर नहीं निकल पा रहे हैं। इन लोगों ने प्रशासन से मदद की गुहार लगाईं है। 

हैदराबाद के कृष्णा नगर थाना क्षेत्र के ढाबा चौक में फंसे बेमेतरा और बलौदाबाजार के 20 मजदूर, सभापति राहुल टिकरिहा से मदद की गुहार लगाई  है। 

बेमेतरा जिला पंचायत सभापति  राहुल टिकरिहा ने बेमेतरा और बलौदाबाजार कलेक्टर को पत्र के माध्यम से हैदराबाद में फंसे 20 मजदूरों की जानकारी देते हुए सभी मजदूरों को हैदराबाद में ही खाद्य सामग्री की व्यवस्था करने तथा उन्हें वापस छत्तीसगढ़ लाने का निवेदन किया है।


 हैदराबाद में फंसे बेमेतरा जिला के पीड़ित परिवार रोज कमाने और खाने वाले है। लॉक डाउन की वजह से  काम बंद हो हो गया है। जिससे  उन्हें खाद्य सामग्री के लिए मुसीबतों का सामना करना पड़ रहा है। इन  परिवार की सहायता के लिए ठेकेदार ने भी साफ़ इंकार  कर दिया है।


जानकारी के अनुसार  पीड़ित परिवार बेमेतरा जिला के अछोली व बलौदाबाजार जिला के दरचुरा और खैरघट गॉव के रहने वाले है। पीड़ित परिवार ने हैदराबाद से ही सभापति राहुल टिकरिहा को फोन के माध्यम से वहां की वस्तुस्थिति से अवगत कर मदद के लिए निवेदन किया है। सभापति टिकरिहा ने तुरंत कलेक्टर को पत्र लिखकर एवं कलेक्टर को फोन कर इस बात से अवगत कराया और शीघ्र ही सभी की सहायता करने का आग्रह किया है।

chandra shekhar


फंसे हुए मजदूरों में 7 लोग बेमेतरा जिले के हैं। वहीं 13 लोग बलौदाबाजार जिले के बताए जा रहे है।जिनमें 3 बच्चे भी शामिल हैं।