breaking news New

तेंदूपत्ता संग्रहण में पूर्व भानुप्रतापपुर वनमण्डल छत्तीसगढ़ में प्रथम

तेंदूपत्ता संग्रहण में पूर्व भानुप्रतापपुर वनमण्डल छत्तीसगढ़ में प्रथम

भानुप्रतापपुर, 1 जून। अच्छे क्वालिटी के तेंदूपत्ता तोड़ाई कार्य मे पूर्व वनमण्डल भानुप्रतापपुर पूरे प्रदेश में आगे रहा है। वर्ष 2021 में कॉरोना प्रकोप और मौसम के मार के बावजूद पूर्व भानुप्रतापुर वनमण्डल ने रिकॉर्ड बनाते हुए लक्ष्य का 94.34% तेंदूपत्ता संग्रहण  किया है।  

विदित हो कि पूर्व वनमण्डल में कुल 91320 मानक बोरा का संग्रहण हुआ है जबकि लक्ष्य 96900 मानक बोरा का था। वर्ष 2020 में मात्र 81,348 मानक बोरा का संग्रहण हुआ था। वनमण्डल में कुल 68 करोड़ का तेंदूपत्ता संग्रहण हुआ है जिसमें से 36 करोड़  का पारिश्रमिक राशि का भुगतान संग्राहकों को वर्तमान में हो रहा है और शेष राशि बोनस के रूप में बाद में होगा । वनमण्डल में कुल 42 समिति है जिसमें 36029 संग्रहक है जो तेंदूपत्ता की तुड़ाई करते है। 15 दिन के तेंदूपत्ता तुड़ाई से औसतन प्रति संग्रहक को 19,000 रू की आमदनी हुई है जिसमें 10,000 रू पारिश्रमिक राशि के रूप में मिलेगा। एक परिवार में औसतन 2 से 3 संग्रहक होते है। इस तरह हर एक आदिवासी परिवार को इस कठीन समय में  40,000 से 50,000 रू की आमदनी हुई है जो उनके लिए बहुत उपयोगी होगा जब लाकडाउन में सभी विभाग  के रोजगार मूलक कार्य ठप पङे थे।


इस वर्ष तेंदूपत्ता संग्रहण में पूर्व भानुप्रतापुर वनमण्डल छत्तीसगढ़ में संग्रहण प्रतिशत, मात्रा और पारिश्रमिक राशि में पहले नंबर पर है। पूरे छत्तीसगढ़ में 12.82 लाख मानक बोरा का तेंदूपत्ता का संग्रहण हुआ है। जबकि मात्र 77% लक्ष्य कि प्राप्ति हुई है। वनमण्डल के स्टाफ की कड़ी मेहनत से प्रथम स्थान प्राप्त हुआ है। जब वनमण्डल में 5 मई से तेंदूपत्ता संग्रहण चालू हुआ था तब मौसम 10 दिन तक खराब रहा और यही पीक सीजन होता है। एक समय ऐसा लग रहा था मानो 50% लक्ष्य प्राप्त हो जाए बहुत है। पर जैसे ही मौसम साफ होना चालू हुआ सभी फड़ में जा जा कर स्टाफ द्वारा ठेकेदारों से फड़ चालू करवाया गया। कोरॉना में लॉकडाउन लगने के बावजूद सभी ठेकदारों और उनके मजदूरों को सभी फड़ो तक सेट किया । संग्रहण को लंबा खीच के 25 मई तक चलाया गया।


इस संबंध में डीएफओ मनीष कश्यप ने बताया कि तेंदूपत्ता संग्रहण कार्य शासन के महत्वकांक्षी योजना है, सीधे तौर से इस योजना का लाभ ग्रामीण वनवासियों को मिलता है।जिला यूनियन पूर्व भानुप्रतापपुर के द्वारा तेंदूपत्ता तोड़ाई से ही पूर्व संग्रहको एवं कर्मचारियों को समय समय पर कार्यशाला आयोजित करते हुए जानकारी व दिशा निर्देश दिया जाता रहा है, आज इसी का परिणाम है,जिससे  तेंदूपत्ता तोड़ाई कार्य शत प्रतिशत रहा है।