पाकिस्तान में कोरोना से लड़ रहीं महिला डॉक्टरों को मानसिक प्रताड़ना, सेक्स की डिमांड

पाकिस्तान में  कोरोना से लड़ रहीं महिला डॉक्टरों को मानसिक प्रताड़ना,  सेक्स की डिमांड


इस्लामाबाद।  पाकिस्तान में कोरोना वायरस या उसके लक्षणों से पीड़ित लोगों की मदद करने को बनाए गए ऐप्स पर ऑनलाइन सेवा दे रहीं महिला डॉक्टरों को इस मानसिक प्रताड़ना का सामना करना पड़ रहा है।

सोशल मीडिया पर कई ऐसी डॉक्टर्स, नर्सों और महिला मेडिकल स्टाफ ने अपने कड़वे अनुभव शेयर किए हैं और गिरती सोच पर सवाल किया है। ये महिला डॉक्टर ऐप के जरिए या ऑनलाइन लोगों की मदद करने की कोशिश कर रही हैं, लेकिन इनसे आपत्तिजनक बातें की जा रही हैं। मरीज बनकर ये 'शोहदे' बात शुरू करते हैं और फिर निजी होने लगते हैं। यहां तक कि कई बार अश्लील तस्वीरें, यहां तक कि पॉर्न साइट्स के लिंक भी भेजे जाते हैं।

गौर करने वाली बात यह है कि इनमें से कई ऐप्स पहले फ्री नहीं होते थे। यानी के ये लोग पैसे देकर अपॉइंटमेंट बुक करते थे और फिर अश्लील मेसेज किया करते थे। कभी उम्र पूछते थे, कभी मैरिटल स्टेटस तो कभी सीधा सेक्स की डिमांड करते थे।

 सबसे बड़ा नुकसान उन महिला डॉक्टरों का हो रहा है जिन्होंने कई मुश्किलों के बाद इस फील्ड में वापस कदम रखे थे। शादी के बाद कई महिला डॉक्टर प्रैक्टिस बंद कर देती हैं। ऑनलाइन होने की वजह से इस काम से उन्हें भी सहूलियत मिलती है लेकिन इस तरह के व्यवहार से न सिर्फ उन्हें चोट पहुंचती है, बल्कि परिवार में भी तनाव होता है।

कुछ महिलाएं वापस इन्हें लताड़ लगा दिया करती हैं लेकिन कइयों ने इनके चलते काम करना बंद कर दिया है। एक डॉक्टर ने बताया कि ये ट्रोल्स किस हद तक परेशान किया करते हैं। उन्हें सिर्फ जवाब चाहिए होता है, चाहे गुस्से में ही सही। उन्हें पता है कि चाहे जो हो, इसका असर उन पर नहीं, पीड़ितों पर पड़ना है।

chandra shekhar