आस्था में विश्वास रखने वाले तीर्थयात्री के जोखिम से उभरा कोरोना का संक्रमण

आस्था में विश्वास रखने वाले तीर्थयात्री के जोखिम से उभरा कोरोना का संक्रमण


इस्लामिक धार्मिक सभा से जुड़े लोगों के माध्यम से फैला कोरोनोवायरस का संक्रमण

नईदिल्ली। दुनियाभर के कई देशों में अचानक कोरोना के मामले बढ़ गए हैं।  इनमें  लॉकडाउन तोड़ने या कई लोगों के इकट्ठा होने के बाद के मामले ज्यादा बढ़ रहे हैं।  मलेशिया से लेकर ईरान तक, आस्था में विश्वास रखने वाले कुछ समूह और कुछ तीर्थयात्री जोखिम के रूप में उभरे हैं।  भारत में भी कुछ मामले हाल ही में इस संबंध में आ चुके हैं। 


'वॉल स्ट्रीट जर्नल' ने अपनी एक रिपोर्ट में इस बात का अध्ययन किया है कि कहां-कहां और कैसे ये मामले सामने आ रहे हैं।  रिपोर्ट में यह भी बताया गया है कि मामले सामने आने के बाद कैसे इससे निपटा जा रहा है। 


मलेशिया ने स्कूलों, कार्यालयों और प्रार्थना स्थलों को बंद कर दिया है क्योंकि देश में एक इस्लामिक धार्मिक सभा से जुड़े लोगों के माध्यम से कोरोनोवायरस का संक्रमण काफी फैल गया।  इस आयोजन में भाग लेने वालों के माध्यम से वायरस के मामले सिंगापुर और ब्रुनेई में भी पहुंच गए। 


इधर पाकिस्तान में, ईरान से लौटे तीर्थयात्री बड़ी संख्या में पॉजिटिव निकल रहे हैं।  धार्मिक समारोहों, इन पर आस्था रखने वाले समूहों, और तीर्थयात्री कोरोना वायरस के प्रमुख प्रसारकों के रूप में उभरे हैं। 

chandra shekhar