breaking news New

धमतरी-जगदलपुर मार्ग को भारतमाला परियोजना में शामिल करने भाजपा नेता ने केन्द्रीय मंत्री को लिखा पत्र

धमतरी-जगदलपुर मार्ग को भारतमाला परियोजना में शामिल करने भाजपा नेता ने केन्द्रीय मंत्री को लिखा पत्र

जगदलपुर। धमतरी-जगदलपुर मार्ग NH 30 को फोरलेन किये जाने अथवा इसे भारतमाला परियोजना में शामिल करने भाजपा नेता एवं पूर्व विधायक संतोष बाफना ने एक बार पुनः केन्द्रीय सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी को पत्र लिखकर बस्तरवासियों की मांग पर विचार करने का आग्रह किया है।

गौरतलब है कि, इससे पहले भी बाफना ने केन्द्र सरकार के द्वारा भारतमाला परियोजना में स्वीकृत हुए रायपुर-विशाखापट्टनम एक्सप्रेस-वे में कोण्डागाॅव व्हाया जगदलपुर-नगरनार मार्ग को भी सम्मिलित किये जाने का आग्रह किया था। 

बाफना ने केन्द्रीय मंत्री को अपने भेजे गए पत्र में लिखा है कि केन्द्र सरकार के द्वारा 22 सितम्बर 2014 को स्वीकृत छत्तीसगढ़ राज्य में राष्ट्रीय राजमार्ग क्रमांक 30 धमतरी से जगदलपुर 222 कि.मी. टू लेन मय पेव्हड शोल्डर चौड़ीकरण एवं उन्नयन का कार्य ई.पी.सी. पद्धति से किये जाने हेतु एन.एच.डी.पी.- 4 योजना के अंतर्गत स्वीकृति प्रदान की गई थी और अब यह कार्य लगभग खत्म होने को भी है परन्तु इस मार्ग के चौड़ीकरण मात्र से बस्तर की समस्या का सम्पूर्ण समाधान नहीं हो सकेगा। 

धमतरी से जगदलपुर तक चौड़ीकरण कार्य की स्वीकृति के पश्चात् जगदलपुर तक फोरलेन सड़क का सपना जहाॅ बस्तर वासियों के लिए अधूरा रहा गया था किन्तु यह आशा जरूर थी कि, भविष्य में कभी किसी अन्य विकल्प के माध्यम से रायपुर से जगदलपुर तक की सड़क को फोरलेन में जरूर बदला जाएगा। परंतु केन्द्रीय सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्रालय द्वारा भारतमाला परियोजना जिसका उद्देश्य देश के पिछड़े इलाकों, धार्मिक और ऐतिहासिक पर्यटन स्थलों को जोड़ने के साथ ही अंतर्राष्ट्रीय सीमाओं और राष्ट्रीय गलियारों तक कनेक्टिविटी को बेहतर बनाना है किन्तु इस परियोजना में भी बस्तरवासियों की मांग को कोई स्थान नहीं मिलने से आम जनमानस में निराशा के स्वर व्याप्त हैं। 

   बाफना ने पत्र के अंत केन्द्रीय मंत्री से आग्रह करते हुए कहा है कि मेरा ऐसा मानना है कि, किसी भी क्षेत्र के आर्थिक, सामाजिक विकास में सड़कों की अहम् भूमिका होती है। एक सड़क जिन-जिन इलाकों से होकर गुजरती है वो अपने साथ विकास की किरण भी लाती है। इसलिए यदि धमतरी से जगदलपुर तक फोरलेन में बदल दिया जाए अथवा राष्ट्रीय राजमार्ग क्रमांक 30 को ही भारतमाला परियोजना में शामिल कर दिया जाए तो बस्तर संभाग के विकास की यात्रा प्रारंभ हो सकती है साथ ही इससे बस्तर के नगरनार क्षेत्र में एनएमडीसी के द्वारा 20 हजार करोड़ की लागत से बन रहे संयंत्र से इस्पात उद्योग को बड़ा प्रोत्साहन मिलेग। साथ ही बेहतर सड़क संपर्क उपलब्ध होने से लोगों को बिना किसी अड़चन के आने-जाने की सुविधा भी मिलेगी।