breaking news New

सेंट्रल पेंशन प्रोसेसिंग सेल की स्टेट बैंक कचहरी शाखा रायपुर में

सेंट्रल पेंशन प्रोसेसिंग सेल की स्टेट बैंक कचहरी शाखा रायपुर में

20 वर्षो के लम्बे इंतजार के बाद भोपाल से पीछा छुटा, पेंशनर्स फेडरेशन खुशी जताया

रायपुर। भारतीय राज्य पेंशनर्स महासंघ के राष्ट्रीय महामंत्री एवं छत्तीसगढ़ राज्य सँयुक्त पेन्शनर फेडरेशन के अध्यक्ष वीरेन्द्र नामदेव ने बताया है कि छत्तीसगढ़ राज्य बनने के 20 वर्षो के लम्बे इंतजार के बाद अब पेंशनरों लिये राज्य में सेंट्रल पेंशन प्रोसेसिंग सेल रायपुर स्थित कचहरी शाखा स्टेट बैंक के ऊपरी तल पर 15 दिन के भीतर खुलने जा रहा है। उक्त जानकारी पेंशनर्स फेडरेशन के प्रतिनिधि मंडल को सेंट्रल पेंशन प्रोसेसिंग सेल स्टेट बैंक रायपुर के मुख्य प्रबंधक एस.दासगुप्ता ने दी है।

जारी संयुक्त विज्ञप्ति में  पेंशनर्स फेडरेशन के प्रदेश अध्यक्ष वीरेन्द्र नामदेव तथा फेडरेशन से जुड़े पेशनर्स एसोसिएशन छत्तीसगढ़ के प्रांताध्यक्ष यशवन्त देवान, भारतीय राज्य पेंसनर्स महासंघ छत्तीसगढ़ प्रदेश के अध्यक्ष जयप्रकाश मिश्रा और छत्तीसगढ़ प्रगतिशील पेन्शनर कल्याण संघ के प्रांताध्यक्ष आर पी शर्मा ने आगे बताया गया है कि पेंशनरों के लिये अधिकृत नोडल बैंक भारतीय स्टेट बैंक के कार्यप्रणाली में सेंट्रल पेंशन प्रॉसेसिंग सेल गोविंदपुरा भोपाल में होने कारण पेंशनरों के समस्या के निदान बहुत विलम्ब होता रहा है। अधिकतर 6 माह से आज भी विलम्बित है, कुछ ऐसे प्रकरण रहे है जो 2 साल के बाद निराकृत हुए और आज भी कुछ प्रकरण सालों से लंबित पड़े हैं। दोनों राज्यों के प्रत्येक माह सेवानिवृत्त होने वाले पेन्शनर और दिवंगत होने वाले के उत्तराधिकारी फेमली पेन्शनर के प्रकरण में ट्रेजरी से पेंशन पेमेंट आर्डर (पीपीओ) जारी होने के बाद अंतिम जांच कर प्रकरण सम्बंधित के पेंशन भुगतान करने वाले विभिन्न राष्ट्रीकृत बैंको सीपीपीसी भोपाल द्वारा भेजे जाने में बहुत अधिक विलम्ब से छत्तीसगढ़ राज्य के पेन्शनर परेशानी में रहे है। इसे लेकर पेंशनर्स फेडरेशन ने लगातार प्रधानमंत्री, मुख्यमंत्री, केंद्रीय वित्तमंत्री, रिजर्व बैंक, स्टेटबैंक के मुख्यालय तथा स्थानीय मंत्रालय के अधिकारियों व रिजर्व बैंक रायपुर में पत्राचार करते रहे है। केन्द्रीय वित्त राज्य मंत्री अनुराग ठाकुर के रायपुर प्रवास पर उनसे प्रत्यक्ष भेंट कर चर्चा कर ज्ञापन दिया गया था।

बीच तालमेल में कमी से कुछ बैंकों के संविलियन प्रक्रिया से कोड में परिवर्तन को अमल में लाने में असमर्थता  तथा छत्तीसगढ़ रायपुर में पेंशन प्रोसेसिंग सेल स्थापित नही होने के कारण माह मार्च 21 के मासिक पेंशन का भुगतान अप्रेल 21 में आज दिनाँक तक पेंशनरों के खातें में जमा नही होने पर राज्य के पेंशनरों को हो रही आर्थिक परेशानियों को लेकर रिजर्व बैंक आफ इंडिया को ट्यूट कर इस लापरवाही पर जवाबदेही तय करने और कार्यवाही करने  की मांग की हैं।

पेंशनर्स फेडरेशन ने इस मांग को लेकर बूढ़ापारा रायपुर में प्रांतव्यापी धरना दिया और मंत्रालय के समक्ष जबरदस्त प्रदर्शन भी किया था। छत्तीसगढ़ कर्मचारी अधिकारी फेडरेशन ने भी पेंशनरों के इस महत्वपूर्ण मांग को अपने मांगपत्र में भी शामिल रखा है।

यह भी उल्लेखनीय है कि इसी वर्ष स्थानीय बैंको की लापरवाही और सीपीपीसी भोपाल द्वारा संज्ञान नहीं लेने के कारण 3-4 माह तक राज्य सैकड़ो पेंशनरों को मासिक पेंशन का भुगतान नही हुआ था और आज भी सीपीपीसी से सम्बंधित सैकड़ो पेंशन प्रकरण निदान के अभाव में भोपाल में पड़े हुए हैं, जिसमे फेमली पेंशनर के लंबित भुगतान, मासिक पेंशन बिना कारण बताये कमी कर दिया जाना, जबरन वसूली, 80 वर्ष की आयुपर पेंशनवृद्धि, पाँचवे वेतनमान का एरियर आदि प्रमुख प्रकरणों के निदान की आशा में पेंशनरों हर्ष है। सीपीपीसी शाखा रायपुर में खुलने पर पेंशनर फेडरेशन खुशी जाहिर करते हुये इस कार्य मे प्रत्यक्ष-परोक्ष रूप से सहयोगी सभी लोगो के प्रति आभार जताया है।