breaking news New

मेहुल चोकसी की मुश्किले बढ़ी, डोमिनिका ने किया निषिद्ध अप्रवासी घोषित

मेहुल चोकसी की मुश्किले बढ़ी, डोमिनिका ने किया निषिद्ध अप्रवासी घोषित

सैंटो डोमिंगो । भगोड़े कारोबारी मेहुल चोकसी की मुश्किल बढ़ती जा रही हैं। अब डोमिनिका ने चोकसी ने प्रतिबंधित अप्रवासी घोषित कर दिया है। भगोड़ा मेहुल चोकसी को डोमिनिका द्वारा निषिद्ध अप्रवासी घोषित किया गया था। यह लेटेस्ट जानकारी उसके वकील विजय अग्रवाल के उस दावे का खंडन करता है, जिसमें उन्होंने पिछले हफ्ते कहा था कि मेहुल चोकसी ने अवैध रूप से डोमिनिका में प्रवेश नहीं किया था और वहां की पुलिस उसे गिरफ्तार नहीं कर सकती क्योंकि वह निषिद्ध अप्रवासी नहीं है। मेहुल चोकसी एंटीगुआ से लापता होने के बाद पुलिस द्वारा अवैध प्रवेश के आरोप में डोमिनिका में कानूनी लड़ाई लड़ रहा है।  डोमिनिका के राष्ट्रीय सुरक्षा और गृह मामलों के मंत्रालय द्वारा जारी एक नोटिस के अनुसार, मेहुल चोकसी को 25 मई को एक निषिद्ध अप्रवासी घोषित किया गया था। मंत्रालय ने पुलिस को आप्रवासन और पासपोर्ट अधिनियम की धारा 5(1)(1) के तहत निर्धारित प्रक्रिया को ध्यान में रखते हुए मेहुल चोकसी को डोमिनिका के राष्ट्रमंडल से हटाने का निर्देश दिया था।
मंत्रालय ने उसी दिन मेहुल चोकसी को एक अलग नोटिस भी भेजा था, जिसमें भगोड़े कारोबारी को सूचित किया गया था कि उसे डोमिनिका में प्रवेश करने की अनुमति नहीं है। नोटिस में आगे कहा गया था कि पुलिस को निर्देश दिया गया है कि आपको वापस भेजने के लिए सभी आवश्यक कार्रवाई करें।
गौरतलब है कि मेहुल चोकसी 23 मई को एंटीगुआ और बारबुडा से रहस्यमय तरीके से लापता हो गया था, जहां वह 2018 से ही एंटीगुआ के एक नागरिक के रूप में रह रहा है। उनके वकीलों ने दावा किया कि चोकसी का अपहरण कर लिया गया था। हालांकि, वह डोमिनिका में पाया गया। अपनी कथित गर्लफ्रेंड के साथ संभावित रोमांटिक ट्रिप के बाद उसे पड़ोसी डोमिनिका में अवैध प्रवेश के लिए हिरासत में लिया गया था। हालांकि बाद में मेहुल की टीम ने कथित गर्लफ्रेंड को ही अपहरणकर्ता करार दिया है। चोकसी के वकील ने आरोप लगाया है कि उसे एंटीगुआ के जॉली हार्बर से किडनैप किया गया और उसे नाव के जरिए डोमिनिका ले जाया गया।