breaking news New

"समाज में बालिकाओं की प्रगति का मार्ग प्रशस्त हो" - शिक्षाविद् राजशेखर


कृष्ण नायक

स्वामी आत्मानंद इंग्लिश मीडियम स्कूल कोंटा में मनाया गया राष्ट्रीय बालिका दिवस

 द्रोनापाल। सुकमा राष्ट्रीय बालिका दिवस के अवसर पर 24 जनवरी को प्रखंड मुख्यालय कोंटा स्थित स्वामी आत्मानंद उत्कृष्ट अंग्रेजी माध्यम विद्यालय, कोंटा के सभागार में कोविड-19 के दिशा निर्देशों का पालन करते हुए राष्ट्रीय बालिका दिवस मनाया गया.

स्वामी आत्मानंद उत्कृष्ट अंग्रेजी माध्यम विद्यालय में कोविड-19 के नियमों का पालन करते हुए चित्रकला, भाषण और कविता पाठ का आयोजन किया गया, जिसमें संस्था के छात्रों ने पूरे उत्साह के साथ भाग लिया और भाषण और कविता पाठ किया। विद्यार्थियों द्वारा बनाए गए चित्रों को प्रदर्शित किया गया, कार्यक्रम में उपस्थित अतिथियों ने विद्यार्थियों की प्रतिभा की सराहना की और उनका उत्साहवर्धन किया।

 महिला एवं बाल विकास विभाग, कोंटा की परियोजना अधिकारी दीक्षा वैधी ने कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा कि भारत में हर साल 24 जनवरी को राष्ट्रीय बालिका दिवस के रूप में मनाया जाता है।


इसकी शुरुआत महिला एवं बाल विकास मंत्रालय द्वारा वर्ष 2008 में की गई थी। इस दिन को इसलिए चुना गया क्योंकि 24 जनवरी 1966 को इंदिरा गांधी ने भारत की पहली महिला प्रधानमंत्री के रूप में शपथ ली थी। तभी से यह दिन बेटियों के सम्मान में मनाया जाता है। कार्यक्रम का संचालन प्रधानाध्यापक टी श्रीनिवास वासु ने किया।

इस अवसर पर कार्यक्रम को संबोधित करते हुए शिक्षाविद् सीएच राजशेखर ने कहा कि यह दिन समाज में बालिकाओं की प्रगति का मार्ग प्रशस्त करने के लिए मनाया जाता है। इस दिन समाज में बालिकाओं के प्रति विभिन्न क्षेत्रों में विद्यमान भेदभाव को रोकने, देश में बालिकाओं की आवश्यकता के प्रति जागरूकता बढ़ाने और बालिकाओं के शोषण को रोकने के उद्देश्य से कार्य किया जाता है।


इस अवसर पर मौजूद सेवानिवृत्त शिक्षक एम.सत्यनारायण ने कहा कि अब समाज में बालिका शिक्षा के प्रति लोग जागरूक हैं, अब हर वर्ग की लड़कियों में शिक्षा को लेकर एक बड़ी जागरूकता है। इस अवसर पर सहायक प्रखंड शिक्षा अधिकारी पी श्रीनिवास राव व संस्था के प्राचार्य बीएल औरसा व संकुल समन्वयक मलेश ने कार्यक्रम को संबोधित करते हुए सभी को बधाई दी. कार्यक्रम में संस्था के सभी शिक्षक मौजूद थे।