breaking news New

बाघ की रेडियो कॉलरिंग की गयी

बाघ की रेडियो कॉलरिंग की गयी

पन्ना, 21 मई । मध्यप्रदेश के पन्ना टाइगर रिजर्व में अपनी जीवनसाथी बाघिन की हाल में मृत्यु के बाद बाघ की गतिविधियों पर नजर रखने के उद्देश्य से उसकी ''रेडियो कॉलरिंग'' कर उसे विमुक्त भ्रमण के लिए मुक्त कर दिया गया।

रिजर्व का यह बाघ अभी हाल ही में अज्ञात कारणों के चलते मृत हुई बाघिन का साथी है। मृत बाघिन के चार अनाथ शावक हैं, जिनके प्रति इस बाघ का बर्ताव सहयोगात्मक है। बाघ की प्रत्येक गतिविधि की निगरानी करने के उद्देश्य से इसे रेडियो कॉलर कल पहनाया गया।

पन्ना टाइगर रिजर्व के क्षेत्र संचालक उत्तम कुमार शर्मा ने बताया कि नर बाघ को वन परिक्षेत्र गहरीघाट के बीट मझौली में सफलतापूर्वक जीपीएस रेडियो कॉलर किया गया है। रेडियो कॉलरिंग उपरांत बाघ को स्वच्छंद विचरण के लिए विमुक्त किया गया। रिजर्व के अंतर्गत केन बेतवा लिंक परियोजना के तहत केंद्र सरकार की ओर से पन्ना लैंडस्केप के प्रबंध योजना के लिए 14 बाघों को रेडियो कॉलर की अनुमति प्रदान की गई है। रेडियो कॉलरिंग की समस्त कार्रवाई क्षेत्र संचालक तथा उप संचालक पन्ना टाइगर रिजर्व के मार्गदर्शन में प्राणी चिकित्सक डॉ. संजीव कुमार गुप्ता और उनकी टीम ने की।