breaking news New

विश्व पर्यावरण दिवस पर वृक्षों को काटने का दिया निर्देश

विश्व पर्यावरण दिवस पर वृक्षों को काटने का दिया निर्देश


*संजय जैन*

*धमतरी 5 जून।* ओजस्वी नर्सिंग होम के बाजू नियम विरूद्ध स्थापित किये जा रहे नये पेट्रोल पंप के सामने स्थित लगभग 4 वृक्षों जिसमें दो कहुआ, एक शीशम, एक गुलमोहर वृक्षों को काटने का निर्देश कलेक्टर ने दिया है। चूंकि कलेक्टर ने यह आदेश वन विभाग को जारी किया है, इसलिये उन पेड़ों को काटना हमारी मजबूरी है, यह बात वन विभाग सूत्र द्वारा इस प्रतिनिधि से दूरभाष पर चर्चा के दौरान कही गई है। इन वृक्षों को रोपने, सहेजने के लिये वर्षों लग गये। लेकिन कथित व्यक्ति को लाभ पहुंचाने के उद्देश्य से आज विश्व पर्यावरण दिवस के अवसर पर स्थापित किये जा रहे पेट्रोल पंप के सामने स्थित वृक्षों को जनहित के नाम पर काटे जाने की कवायद शुरू हो गई है जिससे पता चलता है कि यहां कुछ अधिकारी नियमानुसार कार्य नहीं कर रहे है जिसका प्रत्यक्ष प्रमाण हरे-भरे वृक्षों को काटने के निर्देश से दिया जा सकता है।

 5 जून विश्व पर्यावरण दिवस को लेकर समूचे विश्व में आज वृक्ष को रोपित किया जा रहा है और पर्यावरण को बचाने की गुहार लगाई जा रही है। लेकिन धमतरी जिले में कलेक्टर के निर्देश पर अपर कलेक्टर ने वन विभाग अमला को निर्देशित किया है कि जनहित की दृष्टि से खसरा नंबर 154/12 पुराना खसरा नंबर 154/2 के सामने स्थित वृक्षों को काट दिया जाये। इसलिये आज विश्व पर्यावरण दिवस के अवसर पर कुछ लोग ओजस्वी नर्सिंग होम के बाजू स्थित वृक्षों को धीरे-धीरे काटना प्रारंभ कर दिये हैं जिसे लेकर लोगों में भारी निराशा देखी जा रही है। गुजरने वाले लोगों ने वहां कुछ देर रूककर इस प्रतिनिधि से कहा कि जब काटना ही था तो इस वृक्ष को रोपित क्यों किया गया और जब बड़ा होकर यह आमजनों के लिये तपती धूप में छांव का सहारा है तो ऐसे में इससे बड़ा जनहित कार्य क्या हो सकता है। और जिस जनहित की आड़ लेकर उक्त वृक्षों को काटने का निर्देश दिया गया है, वह मात्र व्यक्ति विशेष को लाभ पहुंचाने के उद्देश्य से यह कृत्य किया जा रहा है। इसके पीछे नियम विरूद्ध स्थापित किये जाने वाले पेट्रोल पंप संचालक का षडय़ंत्र बताया जा रहा है जिसने एप्रोच कर तमाम प्रशासनिक अमले पर दबाव डलवाकर यह कार्य कराने में अधिकारियों को मजबूर कर दिया है।

 मिली जानकारी के अनुसार पता चला है कि वरिष्ठ प्रबंधक इंडियन ऑयल कार्पोरेशन लिमिटेड रायपुर मंडल रायपुर द्वारा गोकुलपुर धमतरी की निजी भूमि खसरा नंबर 154/12, पुराना खसरा नंबर 154/2 में प्रस्तावित रिटेल आउटलेट पेट्रोल पंप की स्थापना किये जाने का प्रयास किया जा रहा है। नये पेट्रोल पंप स्थापित किये जाने को लेकर सेंट्रल पॉल्युशन बोर्ड एवं राष्ट्रीय हरित प्राधिकरण द्वारा एक आदेश पारित कर कहा गया है कि नया पेट्रोल पंप स्थापित किये जाने वाले क्षेत्र के 50 मीटर की परिधि में कोई अस्पताल न हो, आबादी निवासरत न हो, स्कूल न हो, तब इस पेट्रोल पंप स्थापना की अनुमति दी जा सकती है। लेकिन बड़े दुर्भाग्य की बात है कि इन सभी बातों की जानकारी जिला प्रशासन को पूरी तरह है क्योंकि उक्त पेट्रोल पंप को लेकर पूर्व में ओजस्वी नर्सिंग होम के संचालक स्व.डॉ आर एस ठाकुर द्वारा एक शिकायत कलेक्टर को दी गई थी। इसके बाद वार्डवासियों ने भी संयुक्त रूप से एक शिकायत कलेक्टर को पुन: प्रस्तुत की, इसके बाद समाजवादी पार्टी के जिलाध्यक्ष ने भी सेंट्रल पॉल्युशन बोर्ड एवं राष्ट्रीय हरित प्राधिकरण के आदेश सहित अनेक दस्तावेजों को संलग्र कर कलेक्टर धमतरी सहित विभिन्न विभागों को प्रेषित करते हुए उक्त पेट्रोल पंप निर्माण पर आपत्ति जताई है जिसकी जांच अभी अपर कलेक्टर के आदेश पर खाद्य अधिकारी द्वारा की जा रही है।

 बताया जाता है कि अपर कलेक्टर के आदेश पर खाद्य विभाग द्वारा जांच पूरी नहीं हुई है। इनका तर्क था कि कोरोना काल की वजह से अधिकांश कार्य प्रभावित हुए हैं। जैसे ही कोरोना काल हटेगा, इसकी जांच प्रारंभ की जायेगी। इसी तरह तहसीलदार धमतरी द्वारा भी जांच किये जाने की बात प्रतिनिधि द्वारा चर्चा के दौरान कही गई थी। हालांकि उन्होंने जांच कर प्रतिवेदन अनुविभागीय अधिकारी को प्रस्तुत कर दिया है। लेकिन जांच अभी पूरी हुई भी नहीं है कि राजनीतिक एप्रोच के चलते नई दिल्ली के आदेश की अवहेलना करते हुए संबंधित पेट्रोल पंप वाले व्यक्ति को लाभ पहुंचाने के उद्देश्य से यह कृत्य किया जा रहा है। इस मामले को लेकर वन मंडल अधिकारी से भी संपर्क करने की कोशिश की गई, लेकिन मोबाईल कवरेज क्षेत्र से बाहर होने की वजह से नहीं लग पाया। बहरहाल जब नई दिल्ली के दोनों केंद्रीय कार्यालयों द्वारा अस्पताल के समक्ष नया पेट्रोल पंप स्थापित नहीं किये जाने की व्यवस्था दी गई है तो फिर इसकी जानकारी होते हुए भी कलेक्टर के निर्देश पर वन विभाग अमला द्वारा 5 जून पर्यावरण दिवस अवसर पर इन वृक्षों की कटाई किस आधार पर की जा रही है, यह चर्चा का विषय है। इस संबंध में जिलाधीश जयप्रकाश मौर्य से दूरभाष पर संपर्क कर उनका पक्ष लिये जाने का प्रयास किया गया परंतु उनसे संपर्क नहीं हो पाया।