breaking news New

80 प्रतिशत से अधिक उड़ानों की अनुमति देने पर सरकार कर रही विचार

 80 प्रतिशत से अधिक उड़ानों की अनुमति देने पर सरकार कर रही विचार

नयी दिल्ली . कोविड-19 महामारी के बीच हवाई यात्रियों की बढ़ती संख्या के मद्देनजर सरकार घरेलू मार्गों पर और उड़ानों की अनुमति देने पर विचार कर रही है।

नागरिक उड्डयन मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने मंगलवार को यहाँ एक संवाददाता सम्मेलन में कहा कि विमान सेवा कंपनियों को घरेलू मार्गों पर कोविड-19 से पहले की तुलना में 80 प्रतिशत तक उड़ानों के परिचालन की अनुमति दी गई है। हवाई यात्रियों की संख्या जिस प्रकार रोजाना बढ़ रही है उसे देखते हुये 80 प्रतिशत से अधिक उड़ानों की अनुमति देने पर विचार किया जा रहा है।”

उन्होंने बताया कि यात्री उड़ानों पर दो महीने तक पूर्ण प्रतिबंध के बाद 25 मई को जब उड़ानें दुबारा शुरू की गई थीं उस दिन 30,550 यात्रियों ने सफर किया था। यह संख्या 27 दिसंबर को बढ़कर 2,56,457 पर पहुँच गई है। सरकार ने 25 मई को 33 प्रतिशत उड़ानों के संचालन की अनुमति दी थी। इसे बढ़ाकर 26 जून से 50 प्रतिशत, 02 सितंबर से 60 प्रतिशत और 11 नवंबर से 80 प्रतिशत कर दिया गया।

मंत्री पुरी ने कहा “हमने कोविड-काल में कई सबक सीखे हैं। हम इन सबके बीच पहले से कहीं अधिक मजबूत होकर उभरे हैं। हवाई अड्डों पर (प्रवेश से बोर्डिंग तक) पूरी प्रक्रिया संपर्क रहित हो गई है। यात्रा के नये प्रोटोकॉल सामने आये हैं। किराये की न्यूनतम और अधिकतम सीमा तय करने से सभी को फायदा हुआ है।”

एक प्रश्न के उत्तर में उन्होंने कहा कि उड़ान की अवधि के आधार पर किराये की न्यूनतम और अधिकतम सीमा तय करने से यात्रियों और विमान सेवा कंपनियों दोनों को लाभ हुआ है। यह व्यवस्था फिलहाल फरवरी तक बढ़ाई गई है और इसे आगे जारी रखने या समाप्त करने के बारे में फैसला बाद में किया जायेगा।