breaking news New

आयुष विभाग द्वारा नक्सल प्रभावित क्षेत्र में जाकर योग शक्ति आयुर्वेदिक दवाइयों का वितरण कर Covid-19 से लड़ने की विधि बताई जा रही

आयुष विभाग द्वारा नक्सल प्रभावित क्षेत्र में जाकर योग शक्ति आयुर्वेदिक दवाइयों का वितरण कर Covid-19 से लड़ने की विधि बताई जा रही


आयुष विभाग से संचालित निसरगोपचार महोत्सव का समापन हुआ

दंतेवाड़ा, 23 मार्च। आयुष विभाग द्वारा जिले के अंदरुनी क्षेत्र में जाकर आयुर्वेदिक उपचार योग के माध्यम से लोगों को कोविड-19 से लड़ने की विधि बता रहे हैं जिससे गांव वाले भी बहुत ही खुश है और बढ़ चढ़कर हिस्सा ले रहे हैं।


आयुष विभाग से संचालित निसरगोपचार महोत्सव का समापन हुआ जिसमें दंतेवाड़ा जिले के लगभग 800 प्रतिभागियों को प्राकृतिक चिकित्सा का परिचय दिया गया साथ ही लगभग 140 प्रतिभागियों ने प्राकृतिक चिकित्सा का अनुभव किया।  जिसमें चेहरे का मिट्टी लैप लोकल स्टीम एनिमा सूर्य भाव बेटा मिट्टी की पट्टी और आहार चिकित्सा भी शामिल था ज्ञात हो कि यह कार्यक्रम राष्ट्रीय प्राकृतिक चिकित्सा संस्थान पुणे एवं आयुष योगा वैलनेस सेंटर दंतेवाड़ा के सौजन्य से जिले में आयोजित किया गया जिसमें कोविड-19 से बचाव हेतु सारी सावधानियों को ध्यान में रखते हुए ज्यादा भीड़ एक जगह इकट्ठा हो इसलिए यह कार्यक्रम जिले के पालनर कारली और चितालंका में आयोजित किया गया इस कार्यक्रम के द्वारा दंतेवाड़ा जिले के ज्यादा से ज्यादा लोगों को प्राकृतिक चिकित्सा प्रचार प्रसार हेतु जोड़ा गया इस दौरान रोग से लड़ने हेतु इम्यूनिटी किट का भी वितरण किया गया  इस कार्यक्रम में बाहर से आए प्राकृतिक चिकित्सा विशेषज्ञ डॉ ज्योति प्रकाश प्रधान डॉक्टर बाबूलाल नायक तथा डॉक्टर संतोष कुमार बर्मन एवं इनकी टीम ने बहुत प्रयास करते हुए इस कार्यक्रम को सफल बनाने में अपना योगदान दिया। 

 प्राकृतिक चिकित्सा बगैर दवाई के सरलतम विधि द्वारा पूर्णता स्वस्थ रहने की चिकित्सा पद्धति है जिसका ज्ञान मात्र से ही हम घर पर रहकर बड़ी से बड़ी बीमारियों से लड़ सकते हैं शरीर को स्वस्थ रख सकते हैं तथा दंतेवाड़ा जैसे प्राकृतिक वातावरण में रहकर इस चिकित्सा पद्धति को बेहतर ढंग से अपना सकते हैं यही संदेश देता हुआ गांधीजी के 150वीं जयंती के अवसर पर आयोजित यह कार्यक्रम बहुत ही सराहनीय रहा जिसके कारण दंतेवाड़ा के अधिक से अधिक लोगों ने इसका लाभ लिया।