breaking news New

CM ने कहा - राजनीति लाभ के लिए किसी भी हद तक जा सकते हैं PM मोदी

CM ने कहा - राजनीति लाभ के लिए किसी भी हद तक जा सकते हैं PM मोदी

रायपुर।  छत्तीसगढ़ ने मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी पर पंजाब दौरा रद्द करने और वहां के मुख्यमंत्री पर विमानतल पर की गई टिप्पणी के लिए हमला जारी रखते हुए कहा हैं कि जब वह खुद अपने को असुरक्षित महसूस कर रहे हैं तो वह देश की सीमाओं को क्या सुरक्षित रखेंगे।

मुख्यमंत्री बघेल ने लगातार तीसरे दिन आज फिर प्रधानमंत्री  मोदी पर हमला बोलते हुए पत्रकारों से कहा कि प्रधानमंत्री  मोदी,भाजपा एवं आरएसएस राजनीतिक दुष्प्रचार कर उसका लाभ लेने की हमेशा कोशिश में रहते हैं,इसका ताजा उदाहरण पंजाब हैं। सभा में 70 हजार कुर्सिंयां लगाई गई थी,और भीड़ 500 भी नही थी,इसलिए जान के खतरे का शिगूफा छोड़ दिया गया हैं।

उन्होने कहा कि प्रधानमंत्री को अपनी सुरक्षा एजेन्सियों पर विश्वास नही हैं,किसानों पर विश्वास नही हैं तो आखिर विश्वास किस पर हैं। यह देश तो किसानों का हैं।

उन्होने कहा कि पिछले तीन चार दिन से जिस तरह से इस मसले को लेकर सुनियोजित दुष्प्रचार किया जा रहा हैं,और मुख्यमंत्री चन्नी के पुतले जलाए जा रहे है,इस सभी के पीछे राजनीतिक लाभ लेने की कोशिश हैं। उन्होने कहा कि पंजाब में पहले भी भाजपा की कोई ताकत नही थी और किसान आन्दोलन तथा उसमें हुई मौतों के बाद वह बचा खुचा आधार भी खो चुकी हैं। 

मुख्यमंत्री बघेल ने कहा कि पूर्व में भी प्रधानमंत्री रहते इन्दिरा जी,राजीव जी एवं डा.मनमोहन सिंह के साथ कुछ घटनाएं वास्तविक रूप से घटित हुई लेकिन कभी उन्होने उसका न तो प्रचार किया और उससे लाभ लेने की कोशिश की।यहां तो कुछ हुआ ही नही।

मोदी पर हमले कर राजनीतिक लाभ लेने के राज्य भाजपा नेताओं के बयान के बारे में पूछे जाने पर मुख्यमंत्री बघेल ने पलटवार करते हुए कहा कि धर्मान्तरण एवं साम्प्रदायिकता का जहर राज्य में घोलने की संघ एवं भाजपा की पूरी कोशिश के बाद भी राज्य के सभी 14 नगर निगमों में कांग्रेस के कब्जे से उन्हे संदेश मिल गया है। राज्य के मतदाताओं ने उन्हे नकार दिया हैं।

राज्य के चर्चित लेमरू ऐलीफंट कारीडोर में पड़ने वाली कोल खदानों के बारे में पूछे जाने पर मुख्यमंत्री बघेल ने कहा कि इस क्षेत्र में 39 कोल खदानें आ गई है इस कारण इसमें खनन का सवाल ही नही उठता हैं। उन्होने कहा कि केन्द्रीय कोयला मंत्री से यह स्पष्ट कर चुके हैं।