कटक के कलेक्टर ने पेश की मिसाल ,पिता के निधन के बावजूद जिलाधिकारी कोरोना पीड़ितों की सेवा में जुटे रहे

कटक के कलेक्टर ने पेश की मिसाल ,पिता के निधन के बावजूद जिलाधिकारी कोरोना पीड़ितों की सेवा में  जुटे रहे


नईदिल्ली। देश के राज्य ओडिशा में भी कोरोना वायरस का संक्रमण रोकने के लिए डॉक्टर और प्रशासनिक अधिकारी जी-जान से जूझ रहे है। ओडिशा के कटक जिले के जिलाधिकारी के पिता की  निधन के बावजूद  भी  उन्होंने  अपने काम से मिसाल पेश की है। 

कलेक्टर भवानी शंकर चैनी के पिता का निधन हो गया है. यूं इस घड़ी में उन्हें घर पर होना चाहिए था, लेकिन जिलाधिकारी होने के नाते कटक में कोरोना का संक्रमण रोकने में कलेक्टर भवानी शंकर का अहम रोल है, लिहाजा उन्होंने पिता के निधन के बाद भी छुट्टी नहीं ली है और अपने दायित्वों का पालन कर रहे हैं। 

गौरतलब है कि  भवानी शंकर के पिता दामोदर चैनी भी एक अधिकारी  थे।  मंगलवार को 98 साल की उम्र में उनका निधन हो गया।  इस दौरान भवानी शंकर ड्यूटी पर थे, वे शहर के मिलेनियम सिटी में कोरोना से जुड़े इंतजाम की देख-रेख कर रहे थे।  इस दौरान घर आने के बजाय वे अपने काम में लगे रहे। 

ओडिशा सरकार के कोविड-19 प्रवक्ता सुब्रतो बागची ने कटक के कलेक्टर की तारीफ की है और कहा कि परिवार में जब शोक का वक्त था, वहां उनकी जरूरत थी उस दौरान भी उन्होंने लोक सेवा को तरजीह दिया।

chandra shekhar