breaking news New

मातृ-पितृभक्ति : कलयुग का श्रवण कुमार बना जशपुर का बेटा मर्ज के आगे फ र्ज को दी अहमियत

मातृ-पितृभक्ति : कलयुग का श्रवण कुमार बना जशपुर का बेटा मर्ज के आगे फ र्ज को दी अहमियत

कलयुग में भी लोग ऐसे हैं जो इंसानियत की मिसाल पेश कर रहे

जशपुर ।  जब भी मातृ-पितृभक्ति की बात होती है तो सबसे पहले श्रवण कुमार का ही नाम याद आता है। लेकिन आज के जमाने में जहां भाई-भाई, बाप बेटे लोभ और लालच के चक्कर में एक दूसरे के खून के प्यासे ही चुके हैं। लेकिन इस कलयुग में भी लोग ऐसे हैं जो इंसानियत की मिसाल पेश कर रहे हैं।
कोरोना की चपेट में 70 साल की मां-जशपुर जिले के अंकिरा के रहने वाले 50 वर्षीय रुद्रपाल चक्रेश की  70 वर्षीय वृद्ध माँ कोरोना की चपेट में आ गईं। ऐसे में भी अपनी जान की परवाह ना करते हुए रूद्र पिछले 3 दिनों से कोविड केयर सेंटर में रहकर माँ की सेवा करने में जुटे हुए हैं। दरअसल, रुद्रपाल की 70 वर्षीय माँ कलावती चक्रेश  की 5 दिन पहले कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आ गयी।
कोविड केयर सेंटर में नहीं छोडऩा चाहते थे अकेला-2 दिन बाद उन्हें डिहाइड्रेशन होने लगा तो उन्हें तपकरा स्थित आईटीआई कोविड केयर सेंटर में भर्ती करने की नौबत आ गयी। लेकिन भर्ती करने से पहले परिवार के सदस्य इस सोच में पड़ गए कि कोविड केयर में उनकी सेवा कौन करेगा? कौन उनका ख्याल रखेगा?
काफी देर तक विचार करने के बाद उनके बेटे रुद्रपाल ने मां की सेवा करने का बीड़ा उठाया और वह 3 दिनों से  कोविड सेंटर में अपनी कोरोना पॉजिटिव माँ की सेवा में जुटे हैं।
रूदपाल की खुद की रिपोर्ट नेगेटिव-रुद्रपाल के बेटे ओमप्रकाश चक्रेश ने बताया कि उनके पिता रुद्रपाल स्वस्थ हैं और उनकी रिपोर्ट भी निगेटिव है, लेकिन सरकारी तंत्र के भरोसे उनकी दादी को कोविड सेंटर में अकेला छोडऩा किसी को गंवारा नहीं हुआ, इसलिए निगेटिव होते हुए भी उनके पिता कोरोना पॉजिटिव दादी की देखभाल करने कोविड सेंटर में डटे हुए हैं ।