breaking news New

111 गांवों में बढ़ा संक्रमण का खतरा,गाँव वाले मिलकर ही करें लॉकडाउन नियमों का पालन,नहीं तो होगी भयावह स्थिति - कलेक्टर

111 गांवों में बढ़ा संक्रमण का खतरा,गाँव वाले मिलकर ही करें लॉकडाउन नियमों का पालन,नहीं तो होगी भयावह स्थिति - कलेक्टर


 हेमन्त मिश्रा

बलौदाबाजार, 10 मई।  जिलें में कोरोना संक्रमण की मौजूदा स्थिती की लगातार समीक्षा की जा रहीं। आज कलेक्टर सुनील कुमार जैन ने विषय विशेषज्ञों से प्राप्त रिपोर्ट के आधार पर बताया कि जिलें के करीब 111 गावों में संक्रमण का दर सर्वाधिक है। इन गावों में बेहद तेजी से संक्रमण फैल रहा है। इन गांवों में और संक्रमण ना फैले इसके लिए प्रशासन के साथ गाँव वालें को भी आगें आना होगा। गाँव के सभी लोग आपस मे मिलकर,युवा समिति एवं महिला समितियों सहायता लेते हुए संक्रमण के विस्तार को कम कर सकतें हैं। इसके लिए अब गाँव स्तर में ही सभी को सख्ती से लॉकडॉउन के नियमों का अनिवार्य रूप से पालन करना होगा। इन संक्रमित गाँव मे सार्वजनिक तालाबों के उपयोग,पेयजल की स्रोतों उपयोग पर कड़ी नजर रखतें हुए उन्हें प्रतिबंधित करना होगा। क्योंकि इन तालाबों से अधिक संक्रमण फैलने का डर बना हुआ है। 

सभी ग्राम के सरपंच एवं गाँव के वरिष्ठ नागरिक इस बात का विशेष ध्यान रखतें हुए अपनें गाँव स्तर में ही इससे निपटने योजना बना लें। ताकि सभी लोग सुरक्षित हो सकें। समय रहतें अभी यह कदम नही उठाये तो आने वाले समय मे और भी भयावह स्थिती हो सकती है। मौजूदा दौर में ना जाने हम सभी लोग अपने आसपास,रिश्तेदार,दोस्त,स्नेहजनों को कोरोना से खोया है। आगें भविष्य में ऐसी और कभी स्थिती निर्मित ना हो इसके लिए हम सब को आगें आकर ही कोरोना खिलाफ लड़ाई को लड़ना होगा। उन्होंने उदाहरण देतें हुए कहा की आज बलौदाबाजार के सकरी ग्राम के निवासियों ने सामूहिक एकजुटता एवं प्रयासों से पूरे गाँव मे संक्रमण फैलने से रोक लिया। गाँव वालों ने आपस मे ही मिलकर सख्ती से लॉक  डॉउन एवं कोरोना गाइडलाइन का पालन करना होगा। ऐसे ही अन्य गांवों को भी इसी तरह कार्य करनें की जरूरत है।

ग्राम वार विस्तृत सूची जहाँ पर संक्रमण की दर सर्वाधिक

कलेक्टर श्री जैन ने कहा कि अभी मौजूदा स्थिति को देखते हुए गावों को तीन श्रेणीयों में विभाजित किया गया है। पहले वह गाँव जहाँ पर 50 से अधिक संक्रमित मरीज एक्टिव है। दूसरा वह जहाँ 25 से 50 एक्टिव मरीज है एवं तीसरा वह जहां पर 10 से 25 मरीज है।

अति सवेंदन शील ग्रामों में ऐसे जिलें में 9 गाँव है। जो अति सवेंदन शील के श्रेणी में है। जहां पर अभी 50 से अधिक मरीज एक्टिव है।बलौदाबाजार विकासखण्ड के ग्राम गिन्दोला में 96 एक्टिव,अर्जुनी में 59, भाटापारा के मोपका में 52,बिलाईगढ़ के बरभाटा 66, सोनाडुला 60,मधुबन 59, कसडोल के चरौदा 67, छरछेद 56, पलारी के कोनारी में 61 एक्टिव मरीज है।

सवेंदन शील ग्रामों में ऐसे जिलें में 25 गाँव है। जो सवेंदन शील के श्रेणी में है। जहां पर अभी 25 से 50 के बीच की सँख्या मे मरीज एक्टिव है  इसमें बिलाईगढ़ के गांव जोगेसरा,टुण्डरी, सलौनी कला,कोसमुण्डा,भाटापारा के अकलतरा,सिंगारपुर, देवरी, कडार, कसडोल के कटगी आमगांव, असनीद,खर्वे मटिया सोनाखान बोरसी,अर्जुनी ब,हटोद, पिसीद बरपाली,बिलारी क,दर्रा क, कोट क, पलारी के अंतर्गत कुकदा, कुसमी अछोली शामिल है।

निम्न सवेंदन शील ग्रामों में ऐसे जिलें में 77 गाँव है। जो  निम्न सवेंदन शील के श्रेणी में है। जहां पर अभी 10 से लेकर 25 के बीच की सँख्या मे मरीज एक्टिव है इसमें बालौदाबाजारा के अंतर्गत ग्राम बरदा,बिटकुली, सोनडीह रवान,रिसदा, करमदा मुंडा सरखोर अहिल्दा,पनगांव,रिसदा मरदा

भाटापारा के अंतर्गत ग्राम कुकदा, ढाबाडीह मुड़ाघाट धनेली, सिलपा, लच्छनपुर, दतरेंगी,सूमा,पेंडरी, निपनिया, खरी क,बिलाईगढ़ के कैथा, करियाटार,चुरैला, गोविंदवन खंजरी झुमका, पुरगांव, बघमल्ला, दुहनी दुमहानी,पंडरीपाली, बम्हनपुरी, कसडोल के बम्हनी, छाछी, चौरादा, मड़वा,नगरदा, सेल,देवतराई, गोलाझर, बलौदा,बरेली, नगेडा, कोसमसरा,पुटपुरा,कुरमाझर, मोहतरा,दर्रा क मोतीपुर,आमाखोहा सुकुली उसी तरह पलारी के सुंदरावन, ओडान,गिरतरा गिधपुरी, मुड़पार, दातान प, कोसमंदी,चरौदा, सलौनी, घोटिया,घिंघोला,वटगन,बिल्हा ब्रम्हनी,गिराकेरा,खरतोरा नवागांव, जारा, खैरा,कोदवा शामिल हैं।