breaking news New

लोगों की जीवन स्तर को ऊंचा उठाना हमारी सर्वोच्च प्राथमिकता : मुख्यमंत्री

लोगों की जीवन स्तर को ऊंचा उठाना हमारी सर्वोच्च प्राथमिकता : मुख्यमंत्री

राजनांदगांव। विश्व आदिवासी दिवस पर आज मुख्यमंत्री  भूपेश बघेल अपने निवास कार्यालय से वीडियो कान्फ्रेसिंग के जरिए विभिन्न जिलों के जनप्रतिनिधियों और विभिन्न योजनाओं के हितग्राहियों से जुड़े। मुख्यमंत्री  बघेल ने मां दंतेश्वरी और बुढ़ादेव की पूजा-अर्चना कर प्रदेशवासियों को विश्व आदिवासी दिवस की बधाई एवं शुभकामनाएं दी। मुख्यमंत्री  भूपेश बघेल ने विभिन्न जिलों के हितग्राहियों को व्यक्तिगत वन अधिकार पत्र, सामुदायिक वन अधिकार पत्र एवं वन संसाधन पत्र का वितरण किया। इसके साथ ही मेधावी छात्रों का सम्मान किया गया। मुख्यमंत्री  भूपेश बघेल ने अपने उद्बोधन में कहा कि जल-जंगल-जमीन सहित हर तरह के स्थानीय संसाधनों पर स्थानीय समुदायों का अधिकार सुनिश्चत करना और उनके जीवन स्तर को ऊंचा उठाना हमारी सर्वोच्च प्राथमिकता है। राज्य सरकार आदिवासी समुदायों के सांस्कृतिक विकास के साथ-साथ उनके सामाजिक, आर्थिक विकास की दिशा में लगातार कदम उठा रही है। छत्तीसगढ़ के ग्रामीण वन क्षेत्रों के चारागाहों और जलाशयों से लेकर वनोपजों तक आदिवासी समुदायों के अधिकारों का दायरा बढ़ा है। वे अब ज्यादा आसानी से खेती, पशुपालन, मत्स्य पालन, लाख उत्पादन, वनोपज संग्रहण करते हुए जीवन यापन कर रहे हैं। वन भूमि पर खेती कर रहे आदिवासियों को अब आम किसानों की तरह शासन की योजनाओं और सुविधाओं का लाभ मिल रहा है। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री सुपोषण अभियान से राज्य में अब तक 1 लाख 40 हजार से अधिक बच्चे कुपोषण मुक्त हो चुके हैं। इसी तरह 80 हजार से अधिक महिलाओं को एनीमिया से मुक्ति मिली है। दुर्गम से दुर्गम क्षेत्रों तक मुख्यमंत्री हाट बाजार क्लिनिक योजना से चिकित्सा सुविधाएं पहुंचाई जा रही है। अब तक आदिवासी क्षेत्रों के 11 लाख ग्रामीणों को लाभ हुआ है। इसी तारतम्य में संसदीय सचिव  इन्द्रशाह मंडावी ने कलेक्टोरेट सभाकक्ष राजनांदगांव में हितग्राहियों को व्यक्तिगत वन अधिकार पत्र, सामुदायिक वन अधिकार पत्र एवं वन संसाधन पत्र का वितरण किया। उन्होंने आवासीय विद्यालय एकलव्य एवं प्रयास के मेधावी छात्रों को पुरस्कार प्रदान कर सम्मानित किया।

संसदीय सचिव  इन्द्रशाह मंडावी ने विश्व आदिवासी दिवस बधाई एवं शुभकामनाएं दी। उन्होंने कहा कि आदिवासियों के हित में सामाजिक, आर्थिक और शैक्षणिक क्षेत्र में कार्य हुए है। इसके लिए उन्होंने मुख्यमंत्री  भूपेश बघेल को धन्यवाद दिया। कलेक्टर  तारन प्रकाश सिन्हा ने बताया कि जिले में आज 103 व्यक्तिगत वन अधिकार पत्र, 20 सामुदायिक वन अधिकार पत्र और 30 वन संसाधन पत्र वितरण किया गया। उन्होंने कहा कि मोहला, मानपुर, अंबागढ़ चौकी में विशेष अभियान चलाकर सामुदायिक वन अधिकार पत्र वितरण कर रहे है।

इस अवसर पर शासकीय मेडिकल कॉलेज रायपुर में एमबीबीएस में चयनित विद्यार्थी विकासखंड मोहला के ग्राम मटेवा  जतिन गोटे एवं एनआईटी में चयनित विद्यार्थी विकासखंड अंबागढ़ चौकी ग्राम हांडीटोला  विलास कुमार सहारे और विकासखंड छुरिया ग्राम गिधिरी  महेन्द्र कुमार भूआर्य को लेपटाप प्रदाय के लिए 50 हजार रूपए का चेक प्रदान कर सम्मानित किया गया। इसी प्रकार माध्यमिक शिक्षा मंडल द्वारा आयोजित कक्षा 10वीं एवं 12वीं बोर्ड परीक्षा में आवासीय विद्यालय एकलव्य के उत्कृष्ट अंक प्राप्त करने वाले विद्यार्थियों को सम्मानित किया गया। जिसमें कक्षा 10वीं से एकलव्य आदर्श आवासीय विद्यालय पेण्ड्री के विद्यार्थी  अमित कुमार आंचला, कुमारी भारती कोमा तथा 12वीं से कुमारी हर्षिता,  खेलेश्वर कुमार गांवरे को उत्कृष्ट अंक प्राप्त करने पर सम्मानित किया गया। इस अवसर पर जिला विधिक सेवा प्राधिकरण द्वारा विद्यार्थियों को सरल कानूनी शिक्षा पुस्तक दिया गया। कार्यक्रम में पुलिस अधीक्षक  डी श्रवण, सिविल न्यायाधीश  देवाशिष ठाकुर, जिला पंचायत सीईओ  लोकेश चंद्राकर, अपर कलेक्टर  सीएल मारकण्डेय, संयुक्त कलेक्टर श्रीमती इंदिरा देवहारी, संयुक्त कलेक्टर  वीरेन्द्र सिंह, एसडीएम  मुकेश रावटे, सहायक आयुक्त आदिवासी विकास  एमएल देशलहरे सहित अन्य अधिकारी एवं हितग्राही उपस्थित थे।