breaking news New

BREAKING : लूट का खुलासा : ड्राइवर ही निकला मास्टर माइंड, आपने तीन साथियों के साथ मिलकर दिया घटना को अंजाम

BREAKING : लूट का खुलासा : ड्राइवर ही निकला मास्टर माइंड, आपने तीन साथियों के साथ मिलकर दिया घटना को अंजाम
रमेश गुप्ता 

भिलाई। चार दिन पहले पाटन में हुई लूट के मामले में पुलिस ने आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है। इस घटना का मास्टर माइंड शिकायत कर्ता का कार ड्राइवर ही निकला। उसने ही अपने तीन साथियों के साथ मिलकर लूट की प्लानिंग की थी। पुलिस ने शक के आधार पर उसे हिरासत में लेकर पूछताछ की तो मामला खुल गया। पुलिस ने इस मामले कार चालक सहित सभी चारों आरापियों को गिरफ्तार कर लिया है। 

बता दें 7 मई का सुंदरनगर रायपुर निवासी किशन लाल चंद्राकर अपनी कार क्रमांक सीजी 04 एच 3362 से अपने ड्रायवर विजेंद्र चक्रधारी के साथ दोपहर करीब 2.50 बजे 1 लाख 98 हजार रुपए एसबीआई बैंक पाटन से निकालकर सिकोला की ओर जा रहे थे। आईटीआई कालेज के सामने नाले के पास ड्रायवर ने गाडी रोक कर फ्रेस होने की बात कह कर चला गया। तभी तीन लोग मोटर सायकल में आये काले रंग का बैग और कार की चाबी लेकर भाग गए। 

घटना के बाद इस मामले में किशन लाल चंद्राकर ने पाटन थाने पहुंचकर शिकायत दर्ज कराई। शिकायत के बाद उपरोक्त घटना को गंभीरता से लेते हुये अभिषेक पल्लव पुलिस अधीक्षक दुर्ग एवं अंनत साहू अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक ग्रामीण जिला दुर्ग के निर्देशन पर देवांश राठौर पुलिस अनुविभागीय अधिकारी पाटन तथा थाना प्रभारी पाटन शिवानंद तिवारी व निरीक्षक गौरव तिवारी के नेतृत्व में टीम गठित कर आरोपियों की तलाश की जा रही थी। 

इस दौरान कई जगहों के सीसी टीवी फुटेज खंगाले गए। आसपास मुखबिरों को लगाया गया। शक के आधार पर कार चालक से भी पूछताछ की गई। यहां पुलिस को सफलता मिल गई। पुलिस पूछताछ में कार चालक ने अपने दोस्तों के साथ मिलकर वारदात कां आंजाम देने की बात कुबूल की। चालक ने पुलिस को बताया कि उसने अपने मालिक से परेशान होकर उसे सबक सिखाने के लिए अपने दोस्त नरेश यादव साथ साचिश रची। 

इसके लिए उसने गाडी नंबर की फोटो अपने दोस्त को भेजी और पूरा प्लान बताया। प्लान के अनुसार सभी ने पाटन में इस वारदात को अंजाम दिया। इस मामले में पुलिस ने नरेश यादव, अशवंत रात्रे, हेमंत साहू और कार चालक विजेन्द्र चक्रधारी को गिरफ्तार किया। आरोपीयों के पास से 1,90,000 रुपए, बैग, एटीएम कार्ड, पास-बुक, चेक-बुक  एवं अन्य साम्रागी बरामद की गई। 

आरोपीयों की पतासाजी एवं गिरफ्तारी करने में उप निरी. राधेश्याम जुर्री ,सउनि पूर्ण बहादुर , आर. शहबाज खान, पंकज कुमार ,जुगनु सिंह, विक्रांत यदु, अनुप शर्मा, समीम खान, संतोष गुप्ता, रिंकु सोनी , तुषार वर्मा , होमन साहू, धर्मेन्द्र सूर्यवंशी, दीपक मानिकपुरी, घनश्याम उराव  की भूमिका सराहनीय रही ।