breaking news New

आय बढ़ाने के लिए दलहन, तिलहन के साथ गेंहू और चने की भी खेती करें किसान

आय बढ़ाने के लिए दलहन, तिलहन के साथ गेंहू और चने की भी खेती करें किसान


सिंचाई सुविधाओं का लाभ लेने के लिए किसानों को प्रोत्साहित करें कृषि अधिकारी- सीइओ
विभागीय योजनाओं की समीक्षा कर जिला पंचायत सीइओ ने दिए आवश्यक दिशा-निर्देश

बैकुण्ठपुर . किसानों की आय बढ़ाने के लिए आवष्यक है कि वह धान की परंपरागत फसलों के अतिरिक्त रबी में दलहन, तिलहन के साथ गेंहू और चने की भी खेती करें। ग्रामीण क्षेत्रों में स्टापडेम, नए तालाबों और पुराने तालाबों के नवीकरण के साथ ही नहरों की आवष्यक मरम्मत हो जाने से जिले भर में सिंचाई रकबे में वृद्वि दर्ज की गई है। इसका वास्तविक लाभ लेने के लिए आवष्यक है कि किसानों को रबी की फसल लेने के लिए ज्यादा से ज्यादा प्रोत्साहित करें।

जिला पंचायत सीइओ श्री कुणाल दुदावत ने समीक्षा बैठक के दौरान कृषि अधिकारियों को निर्देशित करते हुए कहा कि सभी गांवों में अभियान चलाकर रबी की फसल लेने के लिए किसानों को तैयार करें और किसानों को रबी की फसल के लिए पर्याप्त मात्रा में वर्मी खाद का उपयोग करने के लिए प्रोत्साहित करें।

साथ ही उन्होने कृषि विस्तार अधिकारियों के माध्यम से लक्ष्य के अनुरूप प्रत्येक गौठान में आवश्यक मात्रा में पैरा एकत्र करने के निर्देश दिए। जिला पंचायत के मंथन कक्ष में मंगलवार को पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग की समीक्षा बैठक संपन्न हुई।

इसमें कृषि, उद्यानिकी, केवीके, मत्स्य पालन, रेशम, ग्रामीण यांत्रिकी सेवा सहित अन्य विभागों के अधिकारी उपस्थित रहे। समीक्षा बैठक को संबोधित करते हुए जिला पंचायत सीइओ  दुदावत ने कहा कि जनपद पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी और सभी कार्यक्रम अधिकारी प्रति सप्ताह कम से कम 20 गौठानों का निरीक्षण भ्रमण करें और उसका प्रतिवेदन नियमित रूप से जिला पंचायत कार्यालय में प्रस्तुत करें।

उन्होंने अधिकारियों को गोबर खरीदने के बाद उसे समय पर वर्मी कंपोस्ट बनाने के लिए समय सीमा का ध्यान रखने के निर्देश देते हुए कहा कि तीन दिनों में गत माह खरीदे गए पूरे गोबर को खाद बनाने के लिए वर्मी टांकों में भरवाएं।


जिला पंचायत सीइओ ने समीक्षा बैठक में महात्मा गांधी नरेगा के सभी कार्यों की ग्राम वार समीक्षा करते हुए प्राथमिकता के आधार पर सभी आंगनबाड़ी और ठोस एवं तरल अपषिष्ट प्रबंधन केंद्र पूर्ण करने के निर्देष दिए। गौठानों में पर्याप्त पौधारोपण कराने के निर्देष देते हुए उन्होने कहा कि हमेषा बड़े आकार के पौधे रोपे जाएं ताकि वह जल्द बढ़कर तैयार हो जाएं।

मनरेगा के अन्य मानक बिंदुओं पर समीक्षा करते हुए उन्होने रिजेक्टेड ट्रांजेक्षन को अविलंब सुधारने के निर्देष दिए। महिलाओं के रोजगार प्रतिषत को बढ़ाने के निर्देष देते हुए उन्होने वनाधिकार पत्रकधारी परिवारों को सर्वोच्च प्राथमिकता से अकुषल श्रम में नियोजित करने के लिए कहा। गौठानों के समीप ज्यादा से ज्यादा व्यवसायिक फसलों जैसे लेमनग्रास, हल्दी आदि की खेती के लिए समूह का चयन करने के निर्देष देते हुए उन्होने कहा कि बाड़ी विकास का सही महत्व तभी है जब वहां संलग्न महिलाओं को निष्चित आमदनी प्राप्त होने लगे।

सोसल आडिट के बाद लंबित वसूली की प्रक्रिया को एक सप्ताह मे पूरा करने के निर्देष देते हुए उन्होने जनपद पंचायत के मुख्यकार्यपालन अधिकारियों से कहा कि सामुदायिक षौचालयों में बनी हुई दुकानों को भी एक सप्ताह में नीलाम करने की कार्यवाही पूर्ण कराएं। ग्रामीण क्षेत्रों में स्वच्छता के लिए बन रहे सोक्ता पिट, लीच पिट और छूटे हुए परिवारों के साथ दिव्यांगों की सहूलियत के लिए बनाए जाने वाले षौचालय निर्माण पर देरी के लिए उनहोने संबंधित तकनीकी अमले को जमकर फटकार लगाई और दिसंबर अंत तक सभी कार्य पूरा करने के निर्देष दिए।

स्वच्छ भारत मिषन की समीक्षा करते हुए उन्होने कहा कि ठोस एवं तरल अपषिष्ट प्रबंधन के सभी कार्यों के साथ व्यक्तिगत षौचालय निर्माण को प्राथमिकता से पूरा करांए ताकि मानक के अनुरूप जिले की सभी ग्राम पंचायतों को वन स्टार रेटिंग में लाया जा सके। हाइवे के किनारे बनने वाले षौचालय कार्य को अविलंब पूरा करने के निर्देष देते हुए उन्होने कहा कि जल जीवन मिषन कार्यों की समीक्षा करते हुए !

उन्होने प्रत्येक आंगनबाड़ी , विद्यालय, हेल्थ सेंटर में प्रवाहित जल सुविधा का विस्तार करने के निर्देष दिए। जिला पंचायत सीइओ ने कहा कि ग्राम पंचायतों में उपलब्ध पंद्रहवें वित्त की राषि मद से इन सभी कार्यों को पूरी गुणवत्ता के साथ समय-सीमा में पूरा कराकर प्रतिवेदन प्रस्तुत करें।

राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिषन बिहान की समीक्षा करते हुए उन्होने सभी ब्लाक कोआर्डिनेटर को लक्ष्य देते हुए कहा कि प्रत्येक गौठान व उस ग्राम में आजीविका की एैसी गतिविधियों को प्रारंभ कराएं जिससे समूहों को एक निष्चित आय नियमित रूप से प्राप्त हो सके।

समूहों को मिलने वाली ऋण राषि के सही वितरण और समूहों के खाते खोलने के कार्य पर असंतोष व्यक्त करते हुए जिला पंचायत सीइओ ने आगामी एक पखवाड़े में सभी लंबित खातों को खुलवाने के निर्देष दिए।

इसके साथ ही उन्होने बिहान के अंतर्गत सभी की इंटरनल ऑडिट की प्रक्रिया को शीघ्र पूरा कराने के निर्देश दिए। इस समीक्षा बैठक में विभिन्न विभागीय अधिकारियों के साथ तकनीकी अधिकारी और जिला पंचायत के अतिरिक्त मुख्य कार्यपालन अधिकारी श्री प्रशांत कुशवाहा और योजनाओं के अधिकारी उपस्थित रहे।