लॉक डाउन में जोगी लिख रहें आत्म स्मरण

लॉक डाउन में जोगी लिख रहें आत्म स्मरण

रायपुर, 06 अप्रैल | छत्तीसगढ़ के प्रथम  मुख्यमंत्री और जेसीसीजे का सुप्रीमो अजीत जोगी जिसको न केवल छत्तीसगढ़ बल्कि देश भर में राजनीति का सधा और मंजा हुआ खिलाड़ी माना जाता है ऐसा इसलिए भी क्योंकि वह आईएएस और आईपीएस रहकर नौकरशाही तथा राजनीतिक सिस्टम को बहुत करीब से जाना है और जिया है।जब वह इंदौर में कलेक्टर के रूप में कार्यरत थे तब स्वर्गीय राजीव गांधी ने जोगी की बहुमुखी प्रतिभा को पहचाना और राज्यसभा तक पहुंचाया जिसके बाद जोगी का राजनीति गलियारों में एक अलग ही पहचान बन गया जो लगातार जारी है, मुख्यमंत्री के रूप में तीन वर्ष का कार्यकाल बेहद सफल रहा  !

अभी पूरे देश में कोरोना महामारी की वजह से संपूर्ण देश में लॉक डाउन है जिसके कारण जिंदगी की रफ्तार मानो थम सी गई हो। हर कोई अपने अपने तरीके से इस समय का उपयोग कर रहे हैं। लेकिन जेसीसीजे का सुप्रीमो जो प्रायः कार्यकर्ताओं से हमेशा घिरे हुए रहते हैं ऐसे में सोशल डिस्टेंस का पालन करते हुए एकांत में  अपना आत्म स्मरण लिख रहे हैं। जोगी अपना राजनीतिक गुरु मध्यप्रदेश की राजनीति के चाणक्य रहे पूर्व केंद्रीय मंत्री अर्जुन सिंह को मानते हैं। यह निश्चित है, जब यह किताब पूर्ण होकर छप कर सामने आएगी  तब राजनीति के साथ-साथ जोगी जी के व्यक्तिगत जीवन का बहुत से रोचक और अनछुए पहलू  सामने आ सकता है  !जोगी जी अपने राजनीतिक जीवन में बहुत लंबी और सफल पारी खेल चुके  है और इस दौरान वे बहुत से उतार-चढ़ाव का भी सामना किए हैं। इस आत्मकथा से निश्चित ही सभी को कुछ न  कुछ सिखने को मिलेगा, !!