breaking news New

मुख्यमंत्री ने राजगीर को बताया ऐतिहासिक भूमि : संरक्षित कर नई पीढ़ी को प्रेरित करना ही सरकार का उद्देश्य

 मुख्यमंत्री ने राजगीर को बताया ऐतिहासिक भूमि : संरक्षित कर नई पीढ़ी को प्रेरित करना ही सरकार का उद्देश्य

राजगीर।  बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने राजगीर को ऐतिहासिक भूमि बताया और कहा कि इसके इतिहास को संरक्षित कर नई पीढ़ी को प्रेरित करना ही सरकार का उद्देश्य है ताकि उनकी जागृति और बढ़े।

मुख्यमंत्री कुमार ने शनिवार को राजगीर के नेचर सफारी में निर्माणाधीन ग्लास फ्लोर ब्रिज (स्काई वॉक), जीप लाइन, जीप बाइक एवं सफारी के मुख्य कैम्प एरिया का निरीक्षण करने के बाद पत्रकारों से बातचीत में कहा कि भगवान बुद्ध और भगवान महावीर राजगीर आए थे। यह एक ऐतिहासिक भूमि है। उन्होंने कहा, “राजगीर के इतिहास काे संरक्षित कर नई पीढ़ी को प्रेरित करना ही हमलोगों का उद्देश्य है ताकि उनकी जागृति और बढ़े। हमलोग हर जगह काम कर लोगों को प्रेरित कर रहे हैं। इसके लिए पर्यटक केंद्रों को और अधिक विकसित किया जा रहा है। इससे पर्यटन को बढ़ावा मिलेगा।”

मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रकृति और पर्यावरण के प्रति लोगों को जागरूक करने के लिए राज्य में ‘जल-जीवन-हरियाली’ अभियान चलाया जा रहा है। बड़े पैमाने पर वृक्षारोपण किया जा रहा है। सौर ऊर्जा को बढ़ावा देते हुए जल संरक्षण की दिशा में भी काम तेजी से आगे बढ़ रहा है। उन्होंने कहा कि जल और हरियाली है तभी जीवन सुरक्षित है।

श्री कुमार ने कहा कि राजगीर के इलाके में पीने के लिए गंगा नदी का स्वच्छ जल उपलब्ध कराया जा रहा है ताकि लोगों को भूजल के भरोसे नहीं रहना पड़े। इससे नालंदा विश्वविद्यालय, पुलिस अकादमी जैसे अन्य सभी संस्थानों को भी पेयजल आसानी से उपलब्ध हो सकेगा और लोगों को भूजल स्तर की कमी से होनेवाली समस्या से भी छुटकारा मिलेगा। उन्होंने बताया कि यहां खेल के लिए भी विश्वविद्यालय बनाने का निर्णय लिया गया है।

मुख्यमंत्री ने कहा, “हमने राजगीर में नेचर सफारी के साथ-साथ जू सफारी बनाने की बात कही थी और इसका बहुत अच्छे ढंग से निर्माण किया जा रहा है। अधिकारियों से इसकी सुरक्षा और रखरखाव के संबंध में बात हुई है। यह पूरी तरह से सुरक्षित रहे, इस संबंध में हमनें कई सुझाव भी दिए हैं। यहां आकर देखने और घूमने से युवा पीढ़ी को प्रकृति के संबंध में काफी जानकारियां मिलेंगी और वे पर्यावरण के प्रति प्रेरित होंगे।”

मुख्यमंत्री कुमार ने बताया कि अधिकारियों ने जानकारी दी है कि मार्च तक ग्लास फ्लोर ब्रिज का काम पूरा हो जायेगा। यहां आने वाले पर्यटकों की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए पुलिस की स्थायी तैनाती की जाएगी ताकि गलत प्रवृत्ति का व्यक्ति किसी को नुकसान न पहुंचाए। उन्होंने बताया कि तकनीकी विशेषज्ञ भी नियमित रूप से ड्यूटी के लिए में प्रतिनियुक्त रहेंगे।