breaking news New

महात्मा गांधी के आदर्शों से ग्रामीण छत्तीसगढ़ के अर्थव्यवस्था को सुदृढ़ करने बच्चों को कराया अवगत

महात्मा गांधी के आदर्शों से ग्रामीण छत्तीसगढ़ के अर्थव्यवस्था को सुदृढ़ करने बच्चों को कराया अवगत


खरसिया। ट्विनिंग ऑफ स्कूल कार्यक्रम अंतर्गत महात्मा गांधी के आदर्शों से बच्चों को अवगत कराने और छत्तीसगढ़ शासन की महती योजना नरवा, गरवा, घुरवा, बारी के बारे में जानकारी देने के उद्देश्य से शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय कोंडतराई के विद्यार्थियों को पूरे गांव का और वहां स्थित गोठान का भ्रमण कराया गया।

गौरतलब है कि छत्तीसगढ़ शासन ने महात्मा गांधी  के आधारभूत सपनों को पूरा करने के लिये बच्चों को तैयार करने, उनके आदर्शों एवं सिद्धान्तों से बच्चों को अवगत कराने एवं ग्रामीण छत्तीसगढ़ के अर्थव्यवस्था को सुदृढ़ करने के उद्देश्यों को ध्यान में रखकर सरकार की महत्वपूर्ण योजना नरवा, गरवा, घुरवा और बारी से बच्चों को परिचित करवाने और इन योजनाओं के माध्यम से किस प्रकार से ग्रामीण अर्थव्यवस्था को मजबूत बनाते हुये हम आत्मनिर्भर ग्राम की संकल्पना को पूरा कर सकेंगे, इसका मूर्तरूप से अनुभव दिलवाये जाने हेतु सभी शालाओं से स्कूली बच्चों को ग्राम भ्रमण करवाये जाने का निर्देश जारी किया है।

इसी के तहत उच्च कार्यालय से प्राप्त निर्देशानुसार 9 अक्टूबर को शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय कोंडतराई के विद्यार्थियों को पूरे गांव का और गांव के गोठान का भ्रमण कराया गया। विद्यालय भवन से रैली के रूप में निकले बच्चे स्वच्छता का संदेश देने वाली तख्ती लेकर चल रहे थे और लोगों को गांव में और विशेषकर नल, बोरिंग, तालाब आदि के आस-पास स्वच्छता बनाये रखने की अपील भी कर रहे थे। ग्राम भ्रमण के पश्चात विद्यार्थियों को गांव के गोठान ले जाया गया जहां नरवा, गरवा, घुरवा, बारी के माध्यम से किस प्रकार ग्रामीण अर्थव्यवस्था को मजबूत किया जा रहा है इस सम्बंध में जानकारी दी गई। वहां बच्चों ने गोबर से जैविक खाद बनाने की विधि को भी देखा और उसके बारे में जानकारी ली।

इस दौरान विद्यालय के प्राचार्य एस. आर. भगत सहित विद्यालय में कार्यरत शिक्षक-शिक्षिकाओं सहित कर्मचारीगण और विद्यालय में संचालित राष्ट्रीय सेवा योजना के स्वयं सेवक भी ग्राम भ्रमण में उपस्थित थे।