breaking news New

बेटियां सशक्त होंगी तभी देश मजबूत होगाः शालू जिन्दल

बेटियां सशक्त होंगी तभी देश मजबूत होगाः शालू जिन्दल

नई दिल्ली, 29 दिसंबर। जेएसपीएल फाउंडेशन की अध्यक्ष शालू जिन्दल ने कहा है कि बेटियां सशक्त होंगी तभी हमारा देश भारत मजबूत होगा और उनका फाउंडेशन इस दिशा में काम कर रहा है।

फाउंडेशन ने आज यहां जारी बयान में कहा कि श्रीमती जिन्दल भगवान श्रीकृष्ण की जन्मभूमि मथुरा में 1914 में स्थापित श्री किशोरी रमन गर्ल्स इंटर कॉलेज के नए भवन के भूमि पूजन समारोह में ऑनलाइन संबोधित करते हुये यह बात कही। जेएसपीएल फाउंडेशन इस इंटर कॉलेज के भवन के जीर्णोद्धार में सहयोग करेगा।

श्रीमती जिन्दल ने कहा कि प्रत्येक व्यक्ति समाज के लिए कुछ न कुछ अच्छा करने का प्रयास करता रहता है। उनकी भी एक अभिलाषा है कि वह देश की बेटियों को अच्छी शिक्षा दिलाने का प्रयास करें। बेटियां राष्ट्र निर्माण में सर्वश्रेष्ठ योगदान कर सकती हैं। बृज शिक्षा कायाकल्प के कार्यों की सराहना करते हुए उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश, राजस्थान और बिहार के 500 से अधिक स्कूलों में शैक्षिक सुविधाओं के विकास में योगदान कर रही यह संस्था हमारे लिए प्रेरणा का स्रोत है।

श्रीमती जिन्दल ने कहा कि लड़कों की तरह लड़कियों के भी सपने होते हैं। वे सीखना चाहती हैं,सपने पूरे करना चाहती हैं,अपनी क्षमता दिखाना चाहती हैं, काम करके परिवार की मददगार भी बनना चाहती हैं और इस तरह समाज निर्माण में भी योगदान करना चाहती हैं। यूनिसेफ के आंकड़ों का हवाला देते हुए उन्होंने आह्वान किया कि हम सभी बेटियों को शिक्षित करने का बीड़ा उठाएं तो देश की तस्वीर में खुशहाली और संपन्नता का रंग घुल जाएगा। खुशी की बात यह है कि अब युग बदल रहा है। हम सभी को पूरे समर्पण से बेटियों को आगे बढ़ाने का प्रयास करना चाहिए। शिक्षा ही एकमात्र ऐसा माध्यम है, जो बेटियों को सशक्त बना सकती है।

उन्होंने कहा कि एक साक्षर लड़की सदैव अपने भाइयों-बहनों,पड़ोसियों को शिक्षित करने का प्रयास करेगी। इससे एक नई चेतना आएगी, जो कुशलता को बढ़ावा देगी और रोजगार के अनगिनत अवसर भी पैदा करेगी। इसलिए हमें आत्मनिर्भर भारत के सपने साकार करने के लिए बेटियों को उत्तम शिक्षा प्रदान करने की प्रक्रिया में और तेजी लानी होगी।

वर्ष 1914 में स्थापित किशोरी रमन बालिका इंटर कॉलेज बालिका शिक्षा के क्षेत्र में सराहनीय कार्य कर रहा है। खासकर आर्थिक रूप से कमजोर और निम्न-मध्यवर्गीय परिवारों की बेटियों के भविष्य निर्माण के लिए यह इंटर कॉलेज प्रयासरत है। जेएसपीएल फाउंडेशन ने इसके जीर्ण-शीर्ण भवन को नया रूप देने में सहयोग की पहल की है। आधुनिक सुविधाओं से युक्त लगभग 30 हजार वर्गफुट में यह भवन तैयार होगा जो भूकंप रोधी भी होगा। स्कूल में दिव्यांग बच्चों के लिए भी विशेष व्यवस्थाएं की जाएंगी। तीन मंजिला नए भवन में लगभग 5000 छात्राओं को दो पालियों में उत्तम शिक्षा दी जाएगी। वास्तु को ध्यान में रखते हुए स्कूल भवन का निर्माण इस तरह किया जाएगा कि बच्चियों को सूर्य का प्रकाश और स्वच्छ वायु सदैव मिले। यह स्कूल स्थानीय प्रतिभाओं के लिए रोजगार का माध्यम भी बनेगा। इस भवन के डिजाइन और तकनीकी सहयोग का दायित्व जेएसपीएल-आर्किटेक्चर कंस्ट्रक्शन और जेआरएल, सोनीपत उठाएगा। एक साल में इस भवन बनकर तैयार होने की उम्मीद है।