breaking news New

खुलासा : हाउसिंग बोर्ड-नगर निगम की बड़ी चूक, नए सरकारी काम्पलेक्स में पार्किंग सुविधा नही! भाजपा नेता लोकेश कावड़िया ने उठाया मुददा

खुलासा : हाउसिंग बोर्ड-नगर निगम की बड़ी चूक, नए सरकारी काम्पलेक्स में पार्किंग सुविधा नही! भाजपा नेता लोकेश कावड़िया ने उठाया मुददा

जनधारा समाचार
रायपुर. शंकरनगर चौक पर स्थित छत्तीसगढ़ गृह निर्माण मण्डल के कार्यालय के स्थान पर नवनिर्मित व्यावसायिक परिसर में एक बड़ी खामी सामने आई है. हाउसिंग बोर्ड ने लगभग 20 हजार वर्गफीट पर नया काम्पलेक्स तो बना दिया मगर पार्किंग के लिए जगह ही नही छोड़ी. इसके बाद नवनिर्मित दुकानें और फलैट की बिक्री पर संदेह के बादल मंडरा रहे हैं क्योंकि बिना पार्किंग सुविधा के इसे कौन खरीदेगा. इसके चलते बोर्ड को बड़ा नुकसान उठाना पड़ सकता है.


भाजपा प्रदेश कार्यसमिति के सदस्य एवं बस्तर प्रभारी लोकेश कावड़िया ने ध्यानाकर्षण करते हुए कहा कि दोनों सरकारी एजेंसियों ने इसकी परवाह ही नही की. नगर निगम ने नक्शा कैसे पास किया और हाउसिंग बोर्ड ने भी पार्किग की सुविधा पर ध्यान क्यों नही दिया! बोर्ड ने करोड़ों की लागत से शॉपिंग काम्पलेक्स बनाते समय यह नही सोचा कि आवासीय परिसर में रहने वाले या दुकानदार अपनी गाड़ियां कहां पार्क करेंगे. जानते चलें कि हाउसिंग बोर्ड ने भूतल पर दुकानों का निर्माण किया है तथा तीसरे और चौथे माले पर फलैट का निर्माण किया है. साथ ही यहां पर हाउसिंग बोर्ड का कार्यालय भी लगेगा. इस तरह व्यावसायिक परिसर में आने वाले ग्राहक अपनी गाड़ी कहां पार्क करेंगे, यह बड़ा सवाल है.


भविष्य में विवाद का डर : लोकेश कावड़िया

नगर निगम के पूर्व नेता प्रतिपक्ष लोकेश कावड़िया ने आगे कहा कि नगर निगम कामर्शियल प्राइवेट नक्शा पास करते समय पार्किंग की सुविधा अनिवार्य करता है लेकिन छत्तीसगढ़ गृह निर्माण मण्डल व्यावसायिक परिसर में इस नियम की धज्जियां उड़ाई गई हैं. श्री कावड़िया ने छत्तीसगढ़ गृह निर्माण मण्डल के अध्यक्ष कुलदीप जुनेजा को एक पत्र लिखते हुए कहा कि पार्किंग की समस्या का निदान नही किया गया तो आए दिन चौकवासियों को विवाद का सामना करना पड़ेगा. ग्राहक अपनी गाड़ियां अन्य दुकानों और घरों के सामने लगाएंगे जिससे विवाद की स्थिति निर्मित होगी. कावड़िया ने पत्र की कॉपी महापौर, क्षेत्रीय पार्षद, कलेक्टर और एसपी को भी दी है ताकि उपरोक्त समस्या का उचित निदान किया जा सके.