लॉकडाउन के कारण गंगा -यमुना का जल हुआ निर्मल, जालंधर पंजाब से हो रहा है हिमालय का दर्शन

लॉकडाउन के कारण गंगा -यमुना का जल हुआ निर्मल, जालंधर पंजाब  से हो रहा है हिमालय का दर्शन


नईदिल्ली। पूरी दुनिया में कोरोना के कहर ने लोगों को  अपने-अपने घरों में कैद कर दिया हैं।  इसी बीच पूरी दुनिया से प्रदूषण के कम होने की समाचार  लगातार आ रही हैं।  भारत की दो प्रमुख नदियों का पानी भी अब साफ दिखाई दे रहा है।  गंगा-यमुना का पानी इतना साफ हो गया है कि लोग चकित रह गए।  यहाँ तक की जालंधर पंजाब  से हिमालय दिख रहा  है , यह सब जानकार लोग आश्चर्य चकित हो रहे है। 

 भारत में 21 दिनों का लॉकडाउन की वजह से   लगभग सभी इंडस्ट्री बंद हैं।  छोटे से लेकर बड़े-बड़े कारखाने कोरोना वायरस के खौफ के चलते बंद पड़े हैं।  यही कारण है कि इन नदियों का पानी साफ हो गया है। 

दिल्ली में यमुना का पानी इतना साफ दिखाई दे रहा है कि लोग चकित हैं।  क्योंकि यहां यमुना का पानी हमेशा गंदा दिखता था तमाम कारखानों से निकलने वाला कचरा यमुना में ही गिरता था।  यही कारण है कि अब पानी निर्मल होने लगा है। 

यहां तक कि दिल्ली में यमुना नदी में गंदगी के कारण पहले सफेद झाग सा दिखाई देता था लेकिन अब नदी का पानी बिलकुल स्वच्छ हो गया है। 

उधर गंगा नदी भी अब काफी निर्मल दिख रही है।  कानपुर और बनारस जैसे शहरों से गंगा का पानी साफ़ नजर आ रहा है।  बनारस में गंगा किनारे चलने वाली नाव भले ही ठहरी हुई हैं लेकिन गंगा का शांत जल लोगों को बहुत सुखद अनुभूति करा रहा है।  

बनारस में अभी भी बड़े-बड़े नाले निर्बाध गति से गंगा में गिर रहे हैं, बावजूद इसके लॉकडाउन के चलते इन 15 दिनों में गंगा की स्थिति बेहतर हुई है। 

कानपुर से भी गंगा अब साफ दिखाई दे रही है।  यहां गंगा के घाट के किनारे रहने वाले भी मानते हैं कि कुछ समय में गंगा की निर्मलता और शुद्धता बढ़ी है। 

chandra shekhar