breaking news New

छत्तीसगढ़ में लॉकडाउन के कारण दंतेश्वरी, सतबहिनियां मंदिर में मनोकामना ज्योति नहीं जलेगें-केवल राजजोत जलेगें

छत्तीसगढ़ में लॉकडाउन के कारण दंतेश्वरी, सतबहिनियां मंदिर में मनोकामना ज्योति नहीं जलेगें-केवल राजजोत जलेगें


रायपुर। छत्तीसगढ़ राज्य में व्याप्त महामारी ‘‘कोरोना‘‘ वायरस के संक्रमण से भक्तजनों, श्रद्वालुओं को सुरक्षित करने शासन प्रशासन के निर्देश के परिपालन में अंततोगत्वा मंदिरों में ‘मनोकामना‘‘ ज्योति कलश प्रज्जवलित नहीं किए जावेगें। केवल मंदिर में राजजोत प्रज्जवलित कर, पुजारी, पण्डा व व्यवस्थापक हमेंशा की भाॅति माता जी श्रृंगार, भोग, राग आदि की व्यवस्था करेगें। जसगीत, आम श्रद्वालुओं के दर्शन, मेला, ठेला आदि पर पूर्ण प्रतिबध रहेगा। प्राचीन दंतेश्वरी मंदिर पुरानी बस्ती के आचार्य डाॅ. आशुतोष झा, मोहन सिंह ठाकुर, जसवंत सिंह ठाकुर ने बताया है कि मंदिर में मनोकामना ज्योति प्रज्जवलित नहीं किये जावेगें। नवरात्रि पूजा, अर्चना, अनुष्ठान, श्रृंगार आदि नियमित किए जाकर माताजी का प्रतिदिन श्रृंगार, महाआरती यथावत् होगें। आम नागरिकों का प्रवेश वर्जित रहेगा। इसी प्रकार सतबहिनियां माता मंदिर पुरानी बस्ती बंधवापारा के आचार्य पं. विजय कुमार झा, पं.उमेश पाण्डेय, अनिल यादव ने बताया है कि राजधानी के अन्य मंदिरों की भाॅति सतबहिनियां मंदिर में भी मनोकामना ज्योति प्रज्जवलित नहीं किए जावेगें। केवल राजजोत जलाकर दोनों मंदिरों में देश व प्रदेश के नागरिकों, श्रद्वालुओं की कल्याण व रक्षा के लिए माता से मंगलकामना किए जावेगें। पं. विजय कुमार झा ने मंदिरों में श्रद्वालुओं द्वारा मनोकामना ज्योति हेतु जमा कराएं राशि के संबंध में स्पष्ट किया है, कि भक्तजनों की राशि से आगामी कुंवार नवरात्रि  में प्राथमिकता के आधार पर जमा राशि वालें श्रद्वालुओं के मनोकामना ज्योति सर्वप्रथम प्रज्जवलित किए जावेगें, उसके बाद नए ज्योति हेतु राशि प्राप्त किया जावेगा। जो श्रद्वालु इसके बाद भी अपने जमा राशि को वापस प्राप्त करना चाहते है वे मंदिर परिसर में व्यवस्थापक से अपना मूल रसीद दिखाकर, जमा कर राशि वापस भी प्राप्त कर सकतें है।

चंद्र शेखर अग्रवाल 

आज की जनधारा