breaking news New

विद्युत शव दाह गृह चालू करने की उठी मांग

विद्युत शव दाह गृह चालू करने की उठी मांग

त्रिलोचन चक्रवर्ती
कोरिया -चिरिमिरी।  भाजपा के वरिष्ठ नेता  प्रदीप सालूजा  ने कलेक्टर कोरिया से की मांग
चिरमिरी क्षेत्र में भी इस समय कोविड-19 जैसी वैश्विक महामारी से पूरे देश का जनमानस पीड़ित है एवं हमारा शहर भी अछूता नहीं बचा है ,जहां का जनमानस अपनी सांसों को बचाने की जद्दोजहद कर रहा है वहीं दूसरी तरफ covid-19 से संक्रमित लोगों के मृत शरीर को बड़ा बाजार के वार्ड नंबर 28 के श्मशान घाट पर खुले रुप से जलाया जा रहा है जबकि श्मशान घाट से 10 कदम पर बस्ती की बसावट है जिसके कारण इस बीमारी के जीवाणु हवा में उड़कर इंदिरा नगर बस्ती के लोगों को संक्रमित कर सकते हैं और कोरोना बम का विस्फोट हो सकता है, क्योंकि इंदिरा नगर के लोग बड़ा बाजार के सभी घरों में काम करते हैं कोरोना संक्रमित व्यक्ति की मौत के बाद उनके अंतिम संस्कार के समय शव को लकड़ी से जलाने के बजाय विद्युत शवदाह गृह में जलाना स्वास्थ्य विभाग भी सुरक्षित मानता है इसे देखते हुए वरिष्ठ भाजपा नेता श्री प्रदीप सलुजा जी ने कलेक्टर कोरिया से निवेदन किया है कि domanhil में विगत 2 वर्ष पूर्व विद्युत शवदाह गृह का निर्माण DMF फंड से करीब तीस लाख रुपए की लागत से पूर्व महापौर श्री डमरू रेड्डी ने बनवाया था जिसका लोकार्पण परम आदरणीय चरण दास महत जी के द्वारा किया जा चुका है उसकी टेस्टिंग भी लकड़ी डालकर की जा चुकी है,
 उस स्थान पर यदि covid-19 के संक्रमित के शव को वहीं जलाया जाता है तो करोना फैलने की संभावना नहीं होगी  
 इन दोनों कोरोना के कई मरीज मिल रहे हैं कई मौत भी हो चुकी है हालांकि ऐसे मरीजों की मौत के बाद स्वास्थ्य विभाग ने पुरे प्रोटोकॉल का ध्यान रखकर ही अंतिम संस्कार करवाया जा रहा है लेकिन शव दाह गृह जब बना हुआ है फिर उसे क्यों ना चालू किया जाए ,
भाजपा नेता श्री प्रदीप सलुजा जी ने बताया कि विद्युत शव दाह गृह का पूर्ण रूप से टेस्टिंग करने के बाद भी प्रारंभ नहीं किया गया है |

उसके बाद भी सत्ता के मठाधीशो की आपसी लड़ाई और श्रेय लेने की होड़ के कारण चिरिमिरी के लोगों की सांसें उखड़ने लगे तो कोई आश्चर्य नहीं होगा