प्रधानमंत्री राहत कोष में आर्सेलर मित्तल ने दिया 100 करोड़

प्रधानमंत्री राहत कोष में आर्सेलर मित्तल ने  दिया 100 करोड़

दंतेवाड़ा़, 4 अप्रैल। लक्ष्मी एन. मित्तल के अनुसार  कोविड-19 ने दुनिया के हर देश में लोगों की जिंदगी पर बहुत घातक प्रभाव डाला है। कोई भी देश इससे बचा नहीं। भारत की इतनी विशाल जनसंख्या और देश को विकास के इतने महत्वपूर्ण मोड़ पर पहुंचने के बाद यह बीमारी फैलने के परिणाम बहुत गंभीर हो सकते हैं।

ऐसे वक्त में सहयोग बहुत आवश्यक होता है। सरकार, कंपनियों एवं नागरिकों को अपने संसाधनों को एकत्रित करने तथा इस महामारी का सामना करने के लिए हर संभव प्रयास सुनिश्चित करने की जरूरत है।

आर्सेलर मित्तल एवं निप्पोन स्टील के बीच संयुक्त उपक्रम एएम/एनएस इंडिया तथा हिंदुस्तान पेट्रोलियम एवं मित्तल एनर्जी इन्वेस्टमेंट्स के बीच गठबंधन, एचएमईएल ने वायरस से प्रभावित हुए परिवारों एवं समुदायों की रक्षा के लिए भारत को मजबूत बनाने के उद्देश्य से एक पैकेज की घोषणा की। भारत में हमारे संचालित ऑपरेशन के तहत हम प्रधानमंत्री के सिटिजन असिस्टैंस एवं रिलीफ इन इमरजेंसी सिच्युएशन फंड (पीएम-केयर्स) में कुल 100 करोड़ रु. का योगदान दे रहे हैं, ताकि भारत में चल रहे राहत कार्यों में सहयोग दिया जा सके।

 इसके अलावा देश के विभिन्न हिस्सों में हमारे द्वारा संचालित ऑपरेशन्स निम्नलिखित माध्यम से सहयोग दे रहे हैं - 5000 से ज्यादा लोगों को दैनिक आहार तथा 30000 से ज्यादा लोगों को फूड किट्स दे रहे हैं। अपनी उत्पादन सुविधाओं के पास केयर सेंटर्स का विकास कर रहे हैं तथा एम्बुलेंस सेवाएं मजबूत कर रहे हैं। अपने संयंत्र के आसपास के समुदायों को रोकथाम के उपायों की जानकारी एवं सैनिटेशन किट्स और पीपीई (पर्सनल प्रोटेक्शन ईक्विपमेंट) उपलब्ध करा रहे हैं।  इस अवधि में सभी कर्मचारियों को उनके काम के लिए वेतन मिलता रहेगा।

पूरी दुनिया में लोग, संस्थान एवं कंपनियां अपनी सेवाएं दे रहे हैं। मुझे खुशी है कि हमारी कंपनियां इस सहयोग में अपना योगदान दे रही है। मनुष्यों की प्रतिभा विशाल है और मुझे विश्वास है कि यदि हम सब एकजुट होकर काम करेंगे, तो हम इस आपदा को हराने में सफल होंगे। विपदा के इस समय भारतीय नागरिकों ने अद्भुत प्रतिबद्धता, साहस एवं  करुणा प्रदर्शित की है। उन्हें हमारा सहयोग व देश का आभार मिलना चाहिए।