कोरोना किलर से मुठभेड़ के लिए युद्धपोत, प्लेन अलर्ट, सेना के 8,500 डॉक्टर आपात स्थिति के लिए पूरी तरह तैयार

 कोरोना किलर से मुठभेड़ के लिए युद्धपोत, प्लेन अलर्ट, सेना के 8,500 डॉक्टर आपात स्थिति के लिए पूरी तरह तैयार


नई दिल्ली। देश के रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने खतरनाक कोरोना से जुड़ी सेना की तैयारियों का जायजा लिया।  कोरोना से जंग की सबसे नाजुक स्थिति करीब आने पर चिकित्सा से जुड़े साजो-सामान लाने-ले जाने के लिए वायुसेना की ट्रांसपोर्ट फ्लीट तैयार है।    सेना के 8,500 डॉक्टर भी किसी प्रकार की आपात स्थिति के लिए पूरी तरह से तैयार हैं।


सेना के 8,500 डॉक्टर और सपोर्ट स्टाफ भी कोरोना से निपटने के लिए सिविल प्रशासन को मदद देने के लिए पूरी तरह तैयार है। सेना रिटायर्ड हेल्थ प्रोफेशनल्स को भी मदद के लिए तैयार रहने को कहा है। इसके अलावा NCC के 25,000 कैडेट्स को सिविल प्रशासन की मदद के लिए तैयार किया जा रहा है।


नौसेना के युद्धपोत भी स्टैंडबाइ मोड में हैं। ताकि तटीय इलाकों में जरूरी पड़ने पर बड़े पैमाने पर सामान की आपूर्ति की जा सके। दो युद्धपोत को पड़ोसी देशों की मदद के लिए पहले से ही तैयार रखा गया है। अगर जरूरत पड़ी तो दूसरे युद्धपोत को भी उपलब्ध कराया जा सकता है।


वायुसेना ने बताया कि उसके विमानों ने पिछले 3 दिनों में 25 टन सप्लाई को गंतव्य तक पहुंचाया है। वायुसेना ने बताया कि पूरे देश में मांग पूरी करने के लिए उसने अपने सभी ट्रांसपोर्ट बेड़े को तैयार रखा है। सी-17 हेवी लिफ्टर, AN-32 ट्रांसपोर्ट एयरक्रॉफ्ट और सी-130J स्पेशल ऑपरेशन एयरक्रॉफ्ट को सिविल प्रशासन के आग्रह पर ऐक्टिव किया जा रहा है।

chandra shekhar