breaking news New

मध्य प्रदेश समेत आठ राज्यों में 70 फीसदी लोगों में एंटीबॉडी, सीरो सर्वे रिपोर्ट में खुलासा

मध्य प्रदेश समेत आठ राज्यों में 70 फीसदी लोगों में एंटीबॉडी, सीरो सर्वे रिपोर्ट में खुलासा

नई दिल्ली । देश में कोरोना महावारी के मद्देनजर इंडियन मेडिकल रिसर्च काउंसिल (आईसीएमआर) द्वारा कराए गए सीरो सर्वे में मध्यप्रदेश, राजस्थान, छत्तीसगढ़ और बिहार समेत देश के आठ राज्यों में 70 फीसदी लोगों में एंटीबॉडी पाई गई है। जबकि सबसे ज्यादा मामले वाले राज्य केरल में यह आंकड़ा महज 44.4 फीसदी है।
केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा इंडियन मेडिकल रिसर्च काउंसिल के इस सीरो सर्वे की जारी गई गई रिपोर्ट के अनुसासर यह सर्वे 14 जून से 16 जुलाई के बीच कराया गया। इस सर्वे में 6-17 साल के बच्चों को भी शामिल किया गया था। इसको देखते हुए लोगों से गैरजरूरी यात्रा टालने और कोरोना से बचाव के नियमों का सख्ती से पालन करने की अपील की गई थी।  आईसीएमआर ने यह सर्वे देश के 70 जिलों में किया था। यह आईसीएमआर का चौथा सीरो सर्वे है। आईसीएमआर में महामारी विज्ञान विभाग के प्रमुख समीरन पांडा भी सर्वेक्षण में शामिल थे। उन्होंने कहा जिलों को जनसंख्या के आधार पर चुना गया था और इसलिए कुछ राज्यों में अधिक जिलों को शामिल किया गया है।  उन्होंने कहा कि चौथा सीरो सर्वे में शामिल जिले वहीं है जिसे इससे पहले तीनों सर्वे में शामिल किया गया था। सर्वे में हर जिले से 10 गांव या वार्ड में से 40-40 लोगों को चुना गया। मध्य प्रदेश में 79, राजस्थान में 76, गुजरात में 75.3, बिहार में 75, छत्तीसगढ़ में 74.6,  उत्तर प्रदेश में 71.0,  हिमाचल प्रदेश में 62.0, झारखंड में 61.2, हरियाणा में 60.1 तथा महाराष्ट्र में  58 प्रतिशत लोगों में एंटीबॉडी पाई गई।
सभी राज्यों को सीरो सर्वे कराने की सलाह
बुधवार को स्वास्थ्य सचिव राजेश भूषण ने एक पत्र लिखकर राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों को सलाह दी कि वे जिला-स्तरीय डेटा तैयार करने के लिए आईसीएमआर के दिशा-निर्देश में खुद सीरो सर्वे करा लें। जिससे उस आंकड़ें का इस्तेमाल कोरोना की रोकथाम के लिए किया जा सकेगा। आईसीएमआर का सीरो सर्वे राष्ट्रीय स्तर पर कोरोना संक्रमण के फैलाव के स्तर को समझने के लिए डिजाइन किया गया था।  आईसीएमआर के महानिदेशक बलराम भार्गव ने पिछले सप्ताह सीरो सर्वे के नतीजे बताते हुए कहा था देश में लगभग 40 करोड़ यानी 33 फीसदी ऐसे लोग हैं, जिनमें कोरोना की एंटीबाडी नहीं पाई गई है। यानी इन लोगों के कोरोना वायरस की चपेट में आने का खतरा बना हुआ है।
टीकाकरण का महत्व
चौथे सीरो सर्वे ने कोरोना वायरस के खिलाफ टीकाकरण का महत्व भी समझा दिया है। चौथे सीरो सर्वे के मुताबिक जिन लोगों ने वैक्सीन नहीं ली उनमें से केवल 62.3 फीसदी में ही कोरोना के खिलाफ एंटीबाडी पाई गई। जबकि वैक्सीन की एक डोज लेने वालों में से 81 फीसदी और दोनों डोज लेने वालों में से 89.9 फीसदी लोगों में एंटीबाडी पाई गई। सीरो सर्वे यह भी बताता है कि जिन राज्यों ने पहली और दूसरी लहर में संक्रमण को बेहतर ढंग से प्रबंधित किया है, और संक्रमण से एक बड़ी आबादी को बचाया है  उन्हें भी बाकी लोगों के बचाव के लिए तेजी से टीकाकरण करना चाहिए।