breaking news New

कश्मीर में तीन परिवारों का एकाधिकार हमेशा के लिए खत्म

कश्मीर में तीन परिवारों का एकाधिकार हमेशा के लिए खत्म

जम्मू । केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने रविवार को कहा कि किसी को भी जम्मू-कश्मीर में शांति, प्रगति और समृद्धि को बाधित करने की इजाजत नहीं दी जाएगी। जम्मू शहर के भगवती नगर इलाके में एक जनसभा को संबोधित करते हुए शाह ने कहा कि तीन परिवारों का एकाधिकार हमेशा के लिए खत्म हो गया है।

उन्होंने कहा, मैं उनका नाम नहीं लेना चाहता, लेकिन हर कोई उन्हें जानता है। वे आज हमसे पूछ रहे हैं कि हमने क्या किया है। हमने वह किया है जो वे 70 वर्षों में वे नहीं कर सके।

उन्होंने कहा, हमने 70 वर्षों में उपेक्षित रहने वालों को रोजगार, सशक्तिकरण और जगह दिया है। उन्होंने कहा, सत्ता का प्रयोग अब पंच और सरपंच करेंगे, एकाधिकार और शोषण के दिन खत्म हो गए हैं। उन्होंने कहा कि किसी भी कीमत पर किसी को भी जम्मू-कश्मीर में शांति, प्रगति और समृद्धि को बाधित करने की अनुमति नहीं दी जाएगी।

उन्होंने कहा, मैं आपको आश्वस्त करने आया हूं कि जम्मू के साथ अन्याय के दिन खत्म हो गए हैं। अब जम्मू-कश्मीर दोनों का विकास होगा।शाह ने कहा कि उन्हें आशंका है कि खराब मौसम के कारण वह रविवार की रैली को संबोधित कर पाएंगे या नहीं। माता वैष्णो देवी के आशीर्वाद से, अभी धूप है और मैं आपसे बात कर रहा हूं।

आज एक विशेष दिन है क्योंकि यह प्रेम नाथ डोगरा का जन्मदिन है। न केवल जम्मू के लोग, बल्कि पूरे देश के लोग उन्हें नहीं भूल सकते।वह महान व्यक्तित्व थे जो श्यामा प्रसाद मुखर्जी के नेतृत्व में शामिल हो गए और घोषणा की कि एक देश में दो झंडे, दो प्रधानमंत्री और दो संविधान नहीं हो सकते हैं।

शाह ने कहा, श्यामा प्रसाद मुखर्जी और प्रेम नाथ डोगरा की आत्माएं आज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर अपना आशीर्वाद भेज रही हैं।प्रेम नाथ डोगरा प्रजा परिषद पार्टी के संस्थापक थे जिसे बाद में जनसंघ में मिला दिया गया था। इससे पहले शाह ने आईआईटी-जम्मू में नए परिसर का उद्घाटन किया और कई विकास परियोजनाओं की आधारशिला भी रखी।