breaking news New

थरूर ने शून्यकाल में दुबे की ओर से की गयी टिप्पणी पर जताया आपत्ति

थरूर ने शून्यकाल में दुबे की ओर से की गयी टिप्पणी पर जताया आपत्ति

नयी दिल्ली।  कांग्रेस सांसद शशि थरूर और भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) सांसद निशिकांत दुबे के बीच गुरुवार को लोकसभा में वार-पलटवार देखने को मिला।

थरूर ने शून्यकाल में  दुबे की ओर से की गयी एक टिप्पणी पर आपत्ति जताते हुए कहा है कि  दुबे ने उनपर व्यक्तिगत आरोप लगाए हैं जो निंदनीय है।

 थरूर ने कहा ‘‘न्यायाधीशों को वेतन से संबंधित विधेयक पर चर्चा करने के दौरान एक टिप्पणी की गई। यह कहा गया कि मेरे खिलाफ अदालत में मामला लंबित है तो इन्हें चर्चा में भाग नहीं लेना चाहिए। सच यह है कि मेरे खिलाफ कोई मामला लंबित नहीं है। लेकिन अगर मेरे या किसी अन्य सदस्य के खिलाफ मामला लंबित हो तो भी किसी सदस्य को चर्चा में भाग लेने से कैसे रोका जा सकता है।’’

उन्होंने लोक सभा अध्यक्ष ओम बिरला से आग्रह किया कि यह सुनिश्चित किया जाए कि आगे से ऐसा किसी के साथ नहीं हो।

 थरूर की आपत्ति के जवाब में शून्यकाल ही  दुबे ने  बिरला से कहा कि आपने नियम बनाया है कि विधेयक से अलग विषय पर सदन नहीं बोला जाए। जो चीजें अदालत के विचाराधीन हैं उनको लेकर यहां आरोप नहीं लगाना चाहिए।

उन्होंने विपक्ष की ओर इशारा करते हुए कहा कि अगर आप एक अंगुली उठाएंगे तो आप पर चार अंगुली उठेंगी।

दरअसल, लोकसभा में मंगलवार को ‘उच्च न्यायालय एवं उच्चतम न्यायालय (वेतन एवं सेवा शर्त) संशोधन विधेयक’ पर चर्चा में भाग लेते हुए  थरूर ने कुछ विषयों का उल्लेख किया था जिस पर दुबे ने आपत्ति जताते हुए कहा था कि अदालतों में लंबित विषयों को यहां नहीं उठाना चाहिए।