breaking news New

भिलाई नगर निगम की लचर सफाई व्यवस्था : 5 साल में 5 गुना तक बढ़ी सफाई ठेके की राशि, लेकिन शहर नहीं हुआ साफ

भिलाई नगर निगम की लचर सफाई व्यवस्था  :  5 साल में 5 गुना तक बढ़ी सफाई  ठेके की राशि, लेकिन शहर नहीं हुआ साफ

भिलाई ।  भिलाई नगर निगम की लचर सफाई व्यवस्था और सफाई टेंडर में किये गये भ्रष्टाचार के खिलाफ आज राम जन्मोत्सव समिति ने मुक्ति पखवाड़ा के तहत जमकर हल्ला बोला। मुक्ति पखवाड़ा कार्यक्रम के तहत आज समिति रिसाली क्षेत्र के वार्ड 60, 61 एवं 63 तथा केम्प क्षेत्र के वार्ड 20, 21 व 22 पहुंची, जहां स्थानीय लोगों ने समिति का खुशी के साथ स्वागत किया। इस दौरान समिति के सदस्यों ने भी स्थानीयजनों को भ्रष्टाचारी निगम सरकार के कार्यकाल से मुक्त होने पर बधाई दी। आज की यात्रा में भारी संख्या में लोग समिति के साथ शामिल हुए। यात्रा के दौरान लोगों ने रिसाली क्षेत्र की उपेक्षा पर निगम सरकार के खिलाफ आक्रोश जाहिर किया।

रिसाली में सभा को संबोधित करते हुए पार्षद रंगबहादुर साहित  समिति के वरिष्ठ सदस्य विष्णु पाठक सहित विपिन सिंह, रविंद्र भगत ने भी निगम सरकार के खिलाफ जमकर हल्ला बोला। समिति के युवा विंग अध्यक्ष मनीष पाण्डेय ने इस दौरान स्थानीय लोगों से भेंटकर उनकी समस्याएं सुनी। उन्होंने लोगों को विश्वास दिलाया कि शहर में अब किसी भी क्षेत्र की कोई उपेक्षा नहीं होगी, सिर्फ विकास होगा।  पाण्डेय ने शहर सरकार पर हल्ला बोलते हुए कहा कि शहर की सम्मानीय जनता ने बड़े ही विश्वास के साथ एक युवा को शहर को सफाई के क्षेत्र में अव्वल बनाने की जिम्मेदारी सौंपी थी,

उन्होंने इसके विपरीत भ्रष्टाचार में शीर्ष स्थान प्राप्त किया है। शहर में सफाई ठेका पिछले पांच वर्षों में 8 करोड़ से 40 करोड़ तक पहुंच गया लेकिन सफाई का स्तर रोजाना गिरता जा रहा है। आलम यह है कि रिसाली नगर निगम का क्षेत्र अलग होने और बीएसपी द्वारा टाउनशिप में सफाई व्यवस्था स्वयं संभालता है जिससे निगम का बोझ पहले से कम है।

इसके बावजूद सफाई के स्तर में कोई सुधार नहीं। उल्टा महापौर जी दूसरे के कार्यों का श्रेय लेते शहर में दीवारें पोत रहे हैं।  पाण्डेय ने मंच से महापौर एवं उनकी परिषद् को चुनौती देते हुए कहा कि निगम सरकार पिछले दो वर्षों में अपने द्वारा किये गये कार्यों की जानकारी जनता को दें।

स्थानीय पार्षद भी मिलता हैं महापौर की राग से राग

गत दिन सेक्टर 7 में सभा के दौरान  पाण्डेय ने स्थानीय पार्षद के खिलाफ हमला बोलते हुए कहा कि ये भी महापौर की राग में राग मिलाते हैं और दूसरे का कार्यों का श्रेय लेते हुए वार्डवासियों को भ्रमित करते हैं। लेकिन जनता सब जानती है कि कार्य किसने किया है और श्रेय कौन ले रहा है। उन्होने कहा कि जनता पिछले दो वर्षों से जो उपेक्षा झेल रही है उसका परिणाम महापौर और उनकी परिषद् को जल्द देखने को मिलेगा।

कार्यक्रम में मुख्य रूप से जिला अध्यक्ष सेवक राम साहू, महिला शाखा की अध्यक्ष  मंजू दुबे, पार्षद पीयूष मिश्रा, विनोद चेलक, विपिन सिंह, मुन्ना पांडे, मुकेश पांडेय, राम मूर्ति, अजय चौधरी, सुधांशू सिंह, मुकेश तिवारी, प्रशम दत्ता, पप्पू चंद्राकर, मुकेश सिंह,  सुमन कन्नौजिया, मोहन तिवारी, सुमित्रा मांझी, शोभा भगत, उमा सोनकर, सुमनशील, अरविंद वर्मा, अंजय पांडेय, प्रशांत मिश्रा, डी कृष्णा सहित बड़ी संख्या में लोग उपस्थित थे।