breaking news New

पंचायत सचिव आज से हड़ताल पर,पंचायतों में पसरा सन्नाटा

पंचायत सचिव आज से हड़ताल पर,पंचायतों में पसरा सन्नाटा

शासकीयकरण किये जाने की मांग 

भानुप्रतापपुर, 26 दिसंबर।  ब्लाक मुख्यालय के सामने आज शनिवार से नाराज पंचायत सचिव संघ काम बंद कलम बंद कर अनिश्चित कालीन हड़ताल पर बैठ गए है। उनके हड़ताल में चले जाने से पंचायत कार्यालयो में सन्नाटा पसरा हुआ है। वही शासन के जनकल्याणकारी योजनाओं का लाभ से ग्रामीण वंचित हो रहे हैं।

विदित हो कि परिवीक्षा उपरांत शासकीयकरण किये जाने की मांग को लेकर विगत 21 व 24 दिसंबर को जिला एवं ब्लाक मुख्यालय में धरना प्रदर्शन कर मुख्यमंत्री को ज्ञापन सौंपा गया था। इस विषय पर जब संघ के पदाधिकारियों के द्वारा टीएस सिंहदेव मंत्री पंचायत एवं ग्रामीण विकास छग शासन रायपुर से मुलाकात कर मांग पूरे किए जाने की बात कही गई तो इस पर टीएस सिंहदेव का कहना है कि हमारे घोषणा पत्र में यह मांग शामिल है,जिसे पर विचार किया जा रहा है। मंत्री महोदय का गोल मोल जवाब से शासन के प्रति नाराजगी जाहिर करते हुए आंदोलन के लिए विवश हुए है।

पंचायतों में पसरा सन्नाटा 

विदित हो कि पंचायत सचिव के माध्यम शासन के अनेक योजनाएं  संचालित व क्रियान्ववित्त हो रहे थे। ग्रामीण भी अपने कामो को लेकर सीधे पंचायत की ओर रुख करते हुए सचिव के माध्यम से अपनी परेशानियों का निराकरण कर लेते थे, लेकिन आज से पंचायत सचिवों के हड़ताल पर चले जाने से पंचायत भवन भी वीरान हो गई है।

ग्रामीण क्षेत्र होंगे प्रभावित 

देश के लगभग 80 प्रतिशत लोग आज भी गांवो में ही निवास करते है, शासन के अधिकांश योजनाओ का लाभ भी ग्रामीण क्षेत्रों को मिलता है, योजनाओ का सही क्रियान्वयन व संचालन में पंचायत सचिव कि अहम भूमिका होती है, लेकिन कल से उनके अनिश्चित हड़ताल पर चले जाने से पंचायत व सचिव के माध्यम से जो ग्रामीण क्षेत्र के लोगो को  योजनाओं से लाभ मिल रहा है उनसे वंचित हो जाएंगे।

अध्यक्ष झाडू राम गोटा , उपाध्यक्ष कृष्णा कुमार कावड़े, सचिव रघुवर साहू,भोमराज साहू,केशाराम कोरेटी,बरनसिह आंचला, बली रामभास्कर,मंजू बारले,निधि राजपूत, रूबी चौधरी, बसन्ती नेताम,राजेन्द्र सलाम, जागेश्वर दर्रो,श्री दुग्गा,श्री चुरेन्द्र, तुलसी यदु,गीता विषाद, सेवक कुलदीप, धनाराम ठाकुर, श्री सलाम,शायमवती  पदमाकर ,बलदेव हिडामी,संतोषी,फूलसिंह विश्वकर्मा, अंकाल सिंह,भेष कुमार जैन,भारतीय पिस्दा, आसमती शोरी,बली राम पोया, रमेश निषाद,रतिराम कावड़े, बज्जू पोटाई,संजय मरकाम,राजकुमार, दुकालू गोटा,श्रवण कुमार मरकाम,सरला यादव,मंगल सिंह कांगे,सत्यदेव टांडिया, कौशिल्या शोरी,रामकरण सिन्हा, राम संजीवन महला,राम सेवक तेता,सरस्वती निर्मलकर,कंस कुमार चुरेन्द्र, अनिल उपस्थित रहे।