ग्राम मडेली हत्या का हुआ खुलासा, चरित्र शंका बनी वजह

ग्राम मडेली हत्या का हुआ खुलासा, चरित्र शंका बनी वजह

पत्नी ने भाई व देवर के साथ मिलकर दिया वारदात को अंजाम 

धमतरी, 24 मार्च। थाना मगरलोड क्षेत्रांतर्गत 23 मार्च को सूचना मिली कि ग्राम मडेली निवासी रूपसिंग कमार अपने घर पर मृत अवस्था में पड़ा है। उक्त सूचना पर थाना मगरलोड में मर्ग क्रमांक 18/2020 धारा 174  दंड प्रक्रिया संहिता पंजीबद्ध  किया गया तथा मौके पर जाकर मृतक के शव का विधिवत पंचनामा कार्यवाही पश्चात शव का पोस्टमार्टम कराकर डॉक्टर से शॉर्ट पीएम रिपोर्ट प्राप्त किया गया। शार्ट पीएम रिपोर्ट में डॉक्टर द्वारा मृतक रूपसिंग कमार की मृत्यु हत्यात्मक प्रकृति का होना लेख करने पर थाना मगरलोड में अज्ञात आरोपी के विरुद्ध अपराध क्रमांक 62/2020 धारा 302 भादवि पंजीबद्ध कर विवेचना में लिया गया।

उक्त गंभीर अपराध की सूचना पुलिस अधीक्षक बी पी राजभानु को मिलने पर प्रकरण को शीघ्र सुलझाने एवं अज्ञात आरोपियों की पतासाजी कर गिरफ्तार करने निर्देशित किया गया। जिस पर अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक श्रीमती मनीषा ठाकुर रावटे एवं पुलिस अनुविभागीय अधिकारी रश्मिकांत मिश्र के मार्गदर्शन में टीम गठित कर थाना मगरलोड पुलिस अज्ञात आरोपी की पतासाजी में जुट गई। विवेचना क्रम में मडेली के ग्रामीणों एवं मृतक के आस.पड़ोस में रहने वालों से बारीकी से पूछताछ करने पर यह तथ्य सामने आया कि मृतक रूपसिंग कमार अपनी पत्नी श्रीमती दसरी बाई कमार के चरित्र को लेकर अपने भाई रुपेश कमार के साथ अवैध रिश्ते का शंका करता था और इसी बात को लेकर आये दिन दोनों के मध्य वाद विवाद होता रहता था। 

उक्त तथ्य के आधार पर मृतक की पत्नी दसरी बाई कमार को अभिरक्षा में लेकर बारीकी से पूछताछ किया गया किंतु वह कोई तथ्यात्मक जानकारी नहीं दे रही थी जिससे कड़ाई से पूछताछ करने पर अंतत: वह टूट गई और अपना जुर्म कबूल करते हुए बताई की मृतक रूपसिंग कमार अपने भाई रुपेश कमार के साथ उसका अवैध संबंध कहकर उसके चरित्र पर शंका करता था जिस बात को लेकर दोनों पति.पत्नी के बीच आये दिन झगड़ा विवाद भी होते रहता था क्योंकि पूर्व में मृतक रूपसिंग कमार ने अपने सगे डेड साला श्रवण कुमार के गले में तीर मार दिया था जिसमें मृतक रूपसिंग जेल भी गया था किंतु जब से रूपसिंग कमार जेल से छूटकर आया तब से आरोपिया दसरी बाई कमार का भाई श्रवण कुमार पुरानी बात को लेकर उससे रंजिश रखता था तथा मृतक का भाई रुपेश कुमार भी उसके ऊपर रंजिश रखता था क्योंकि वह सगी भाभी के साथ अवैध संबंध की बात कहकर उसके चरित्र पर शंका किया करता था। 

इसी बात को लेकर तीनों आरोपीगण दसरी बाई कमार श्रवण कमार एवं रूपेश कमार ने योजनाबद्ध तरीके से 22 मार्च की रात्रि लगभग 8 बजे मृतक रूपसिंग कमार के घर में उसके गले को तार से दबाकर हत्या करना स्वीकार किये जिस पर तीनों आरोपियों को विधिवत गिरफ्तार किया गया है। इस प्रकार थाना मगरलोड पुलिस टीम के उप निरीक्षक सुभाष लाल, सहायक उपनिरीक्षक जी एस राजपूत, प्रधान आरक्षक दिलेश्वर कुजूर, जामवंत देशमुख, आरक्षक परमानंद साहू एवं खोमेंद्र भारद्वाज ने चंद घंटे के भीतर योजनाबद्ध तरीके से हत्या करने वाले 03 आरोपियों को गिरफ्तार करने में सफलता अर्जित किया गया है।