breaking news New

गांव व पिछड़े क्षेत्रों मैं जाकर काम करना मेरा पहला प्राथमिकता-यादव

गांव व पिछड़े क्षेत्रों मैं जाकर काम  करना मेरा पहला प्राथमिकता-यादव


आम नागरिकों के द्वारा एसडीएम एवं एसडीओपी के स्वागत एवं विदाई समारोह
भानुप्रतापपुर। एसडीएम एवं एसडीओपी के स्वागत एवं विदाई समारोह की गरिमामयी आयोजन कल रविवार रात्रि को विश्राम गृह में किया गया।
जिसमें पूर्व में पदस्थ एसडीएम प्रेमलता मंडावी, एवं एसडीओपी अमोलक सिंह ढिल्लों को नगरवासियों की ओर से  विदाई देते हुए उनके उज्ज्वल भविष्य की कामना किये वही नए पदस्थ एसडीएम जितेंद्र यादव (आईएएस) एवं एसडीओपी प्रशांत कुमार सिंह पैकरा का स्वागत करते हुए प्रशासन व जनता के बीच अच्छे समन्वय बनाये रखने की बात कही गई।
नगरवासियों में एक अधिकारियों के स्थान्तरण एव आगमन को स्वागत एवं विदाई समारोह की अच्छी परम्परा है।

जनसमूहों को सम्बोधित करते जीतेन्द्र यादव ने कहा कि उच्च शिक्षा प्राप्त कर शहर व विदेश न जाकर गांव एवं ग्रामीणों के विकास पर काम करना प्राथमिकता होनी चाहिए। मेरा सपना था कि आईएएस बनने पर गांव व पिछड़े क्षेत्रों मैं जाकर काम करू मैं सरकार को धन्यवाद देना चाहता हूँ कि मेरे पोस्टिंग ऐसे क्षेत्र में किया है जहा पर काम करने एवं कुछ सीखने का मौका मिलगा। उन्होंने कहा कि इस क्षेत्र में अधिकांश बच्चे कुपोषण के शिकार है,जिससे मैं चिंतित हूँ मैं चाहता हु कि कुपोषण रोकने के लिए हम लोग मिलकर काम करे।
इनके अलावा स्वच्छता,स्वास्थ्य, शिक्षा,किसानों की समस्या एवं माइंस क्षेत्र में काम करना प्राथमिकता होगी।
 प्रेमलता मंडावी ने कहा कि भानुप्रतापपुर मेरी पहली पोस्टिंग थी उस समय परिस्थितियों अच्छी नही थी लेकिन आप सभी के साथ मिला और हम प्रशासन और जनता के बीच अच्छा समन्वय बना सके।उन्होंने कहा कि अधिकारी एवं नागरिक के बीच एक गेप रहता है,जब तक ताल-मेल न बिठा ले तक तक कोई भी कार्य संभव नही है।
 अमोलक सिंह ढिल्लों ने अपने कार्यकाल के दौरान रेल रोको आंदोलन एवं रावघाट परियोजना बड़ा मामला था जिसे आप सभी के सहयोग से बहुत ही अच्छे तरीके से हल किया गया। आप लोगो से बहुत कुछ मुझे सीखने का मौका मिला है। भानुप्रतापपुर की एक खाशियत है कि कोई भी अधिकारी यहा आये उसे अपना बना लेते है, आप सभी का दिल बहुत बड़ा है मै आप सभी नागरिकों को धन्यवाद देता हूँ। साढ़े तीन साल आप लोगों के बीच रहा हूँ मुझे भी यहा  से लगाव हो गया है, मैं जहा भी रहूंगा भानुप्रतापपुर को कभी भुला नही पाऊंगा।
 प्रशांत सिंह पैकरा ने कहा कि यदि प्रशासन, पुलिस प्रशासन, जनता व पत्रकारों के साथ अच्छा समन्वय बनाकर चले तो हम कोई भी कार्य को आसानी से हल कर लेंगे।

 जनप्रतिनिधियों ने कहा

 हेमंत ध्रुव अध्यक्ष जिला पंचायत कांकेर ने कहा कि स्थानातरण एक प्रशासनिक प्रक्रिया है, कार्य व जनता के बीच आपसी समन्वय को लेकर अधिकारियों में एक अलग छबि होनी चाहिए।
 सुनाराम तेता उपाध्यक्ष जनपद भानुप्रतापपुर ने कहा कि  क्षेत्र के विकास कार्य मे आप लोगो का अच्छा सहयोग व मार्गदर्शन मिलते रहा।
 निखिल सिंह राठौर ने कहा कि दोनों अधिकारियों का कार्यकाल बहुत ही अच्छा रहा,बिना किसी भेदभाव के कार्य को अंजाम दिए गए।
 सुमन सिन्हा पत्रकार ने कहा कि विदाई के अवसर दुखद रहता है वही नई जगह जाने को लेकर खुशी व उत्साह भी होता है। सर व मेडम का कार्यकाल अच्छा रहा हर वर्ग को लेकर चलते रहे। जहा भी जाये यही जज्बा बना के रखे।
 राजेश तिवारी वकील ने कहा कि  विदाई एक नाजुक शब्द है उसकी अभिव्यक्ति किसी भी शब्दों में नही की जा सकती। समाज मे प्रशासनिक व्यवस्था एक समाज सेवा है, समाज सेवा के लिए आप लोग ने जो अमूल्य सेवा दिए है उनके लिए कोई शब्द नही है।
 अनन्तराम कोठारी अध्यक्ष व्यापारी संघ भानुप्रतापपुर
 ने कहा कि बिना अनुशासन से प्रशासन भी नही चलता है। जहा टीम वर्क होता है वही पर प्रगति व विकास होता है।
 टी एस ठाकुर अध्यक्ष जिला शिक्षक संघ कांकेर ने कहा कि प्रशासनिक अधिकारियों का जीवन पुल के समान होता है जो आमजन व शासन प्रशासन को जोड़े रखता है,एवं शासन की योजनाओं को आम जनतक पहुचाते है।
मंच संचालन बीरेंद्र सिंह ठाकुर अध्यक्ष ब्लाक कांग्रेस भानुप्रतापपुर एवं आभार प्रदर्शन राजू दुबे पत्रकार द्वारा किया गया।
इस अवसर पर  इस अवसर पर जनपद अध्यक्ष बृजबत्ति मरकाम, तहसीलदार आनंद नेताम, नायब तहसीलदार मोक्षदा देवांगन, अनुरिमा टोप्पो, दीपेश चोपड़ा, अधिवक्ता चंद्रकुमार कटझरे, स्टेशन मास्टर जेके राव, विजय धामेचा, नरेंद्र ठाकुर, डॉक्टर अखिलेश ध्रुव, डॉ पलाश शर्मा, व्यवसायी प्रदीप जैन, नरेश जैन, निर्मल शिवहरे,संजय सोनी,अजय साहू,यसवंत चक्रधारी आदि उपस्थित थे।