breaking news New

तात्कालिक अनुविभागीय अधिकारी इन्द्रजीत बर्मन द्वारा न्यायालय के आदेशों की अवहेलना किये जाने के कारण उनके ए.सी.आर. में इस संबंध में टीप दर्ज की जाये - राजस्व मंडल

तात्कालिक अनुविभागीय अधिकारी इन्द्रजीत बर्मन द्वारा न्यायालय के आदेशों की अवहेलना किये जाने के कारण उनके ए.सी.आर. में इस संबंध में टीप दर्ज की जाये - राजस्व मंडल

सक्ती, 27 जून। किसी भी शासकीय अधिकारी कर्मचारी के लिए उनका ए.सी.आर. बहुत महत्वपूर्ण होता है, जिस संबंध में उनके उच्चाधिकारियों द्वारा प्रतिवर्ष साल के अन्त में संबंधित अधिकारी कर्मचारी के संबंध में गोपनीय प्रतिवेदन लिखा जाता है और सेवा पुस्तिका में भी दर्ज किया जाता है। गोपनीय प्रतिवेदन के आधार पर ही संबंधित अधिकारी कर्मचारी का प्रमोशन या सेवा अवधि टिकी होती है। किसी अधिकारी कर्मचारी के लिए उसका सी.आर. (गोपनीय प्रतिवेदन) बहुत महत्वपूर्ण होता है। इसी श्रृंखला में वर्ष 2018 में सक्ती में बतौर अनुविभागीय अधिकारी पदस्थ इन्द्रजीत बर्मन द्वारा राजस्व मंडल में एक प्रकरण की सुनवाई के दौरान बार-बार बुलाये जाने पर भी उपस्थित नहीं होने पर राजस्व मंडल अध्यक्ष सी.के. खेतान द्वारा इस आशय की टीप बर्मन के ए.सी.आर. में दर्ज किये जाने बाबत् सामान्य प्रशासन विभाग को पत्र लिखे जाने का आदेश पारित किया है।


प्रकरण का पूरा मामला यह है कि जगदीश बंसल द्वारा अपनी निजी भूमि पर बनाये गये कार्यालय को दो - दो न्यायालयों के स्थगन के बावजूद इन्द्रजीत बर्मन की उपस्थिति एवं उसके दिशा निर्देश में बदले की भावना एवं विधि विरूद्ध तरीके से नायब तहसीलदार शिवकुमार डनसेना द्वारा तोड़ दिया गया। इस संबंध में बंसल ने राजस्व मंडल बिलासपुर के समक्ष न्यायालय की अवमानना का एक मामला प्रस्तुत किया। मामले में बताया गया कि आपके स्थगन के बावजूद आवेदक के कार्यालय को विधि विरूद्ध तरीके से स्थगन को न मानते हुये तोड़ दिया गया है, इसलिए अनुविभागीय अधिकारी इन्द्रजीत बर्मन एवं नायब तहसीलदार शिवकुमार डनसेना को न्यायालय की अवमानना के तहत् दण्डित करने की कृरें। उक्त प्रकरण में सुनवाई के लिये इन्द्रजीत बर्मन एवं शिवकुमार डनसेना कई पेशियों में उपस्थित नहीं हुये। इन्द्रजीत बर्मन को न्यायालय में उपस्थित होने के लिए कई बार आहूत किया गया, लेकिन बर्मन नियमित रूप से कई पेशियों में उपस्थित न होकर न्यायालय की कार्यवाही को अनदेखा करते हुये न्यायालय के आदेशों की अवहेलना की। फलस्वरूप अध्यक्ष राजस्व मंडल ने सामान्य प्रशासन विभाग को इस संबध में पत्र लिखे जाने का जिक्र करते हुये लिखा कि न्यायालय के आदेशों का पालन और अपने कर्तव्य का पालन न करने के लिये इन्द्रजीत बर्मन के ए.सी.आर. में इस बात की टीप दर्ज की जाये। यहां यह भी बताना लाजमी होगा कि बंसल द्वारा इन्द्रजीत बर्मन के विरूद्ध एक करोड़ रूपये की वसूली बाबत् मानहानि मुकदमें के अलावा अपराधिक प्रकरण भी न्यायालय में प्रस्तुत कर रखे है जो अभी कोरोना काल के चलते लंबित है।