breaking news New

मालखरौदा : सरपंच और इंजीनियर की मिलीभगत से मालखरौदा क्षेत्र में धड़ल्ले से बनाया जा रहा सीसी रोड

मालखरौदा :  सरपंच और इंजीनियर की मिलीभगत से मालखरौदा क्षेत्र में धड़ल्ले से बनाया जा रहा सीसी रोड

मालखरौदा।   क्षेत्र में इन दिनों सी,सी, रोड के ऊपर सीसी रोड निर्माण कार्य धड़ल्ले से चल रहा है जिसमें ना तो इंजीनियर मौके पर पहुंच रहे हैं और ना ही मालखरौदा के कोई  जवाबदार अधिकारी केवल सरपंच के भरोसे ही सीसी रोड का कार्य चल रहा है आपको बता दें कि ग्राम पंचायत बेल्हाडीह के आश्रित ग्राम कनाईडीह में 5.00 लाख का सीसी रोड सरपंच द्वारा बनाया जा रहा है तो वही ग्रामीणों के कहने पर पत्रकार मौके पर पहुंचे तो देखा गया कि ना ही वहां कोई निर्माण स्थल पर कोई अधिकारी थे और ना ही सचिव  सरपंच केवल ठेकेदार के भरोसे ही कार्य चल रहा है तो वही सीसी रोड एक बार बन चुका है उसी स्थान पर सीसी रोड के ऊपर सीसी रोड बनाया जा रहा है पूर्व  सीसी रोड की स्थिति देखें तो वह अभी भी ठीक-ठाक से है हैरानी की बात तो यह है कि इंजीनियर के द्वारा आंख मूंदकर एस्टीमेट बनाकर लेआउट दे दिया गया है जबकि पूर्व में बने सीसी रोड की स्थिति अभी भी सही है इंजीनियर को एस्टीमेट बनाने और लेआउट करने के लिए मोटी रकम कमीशन मिलता है ऐसे जानकारों का कहना है कि जब से सीसी रोड का कार्य शुरू हुआ है तब से अभी तक ना ही इंजीनियर देखने आए हैं और ना ही एसडीओ केवल ठेकेदार के भरोसे ही कार्य को छोड़ दिया गया है नया बन रहा सीसी रोड का स्थिति देखे तो पूर्ण रूप से गुणवत्ता हीन कार्य आनन-फानन के माध्यम से चल रहा है वही ग्रामीणों से बातचीत करने पर पता चला कि जिस जगह पर सीसी रोड की कमी है वहां नहीं बनाया जा रहा है तो एक तरफ सी सी रोड के ऊपर  सीसी रोड बनाया जा रहा है यह साफ जाहिर होता है कि मालखरौदा के इंजीनियर एसडीओ और सीईओ को केवल अपने परसेंट से ही मतलब है सूचना बोर्ड की स्थिति देखें तो कार्यस्थल पर सूचना बोर्ड बनाया जाता है वहां पर कार्य आरंभ एवं कार्य पूर्णता के साथ सड़क निर्माण को देख रहे तकनीकी सहायक का नाम और मोबाइल नंबर भी नहीं लिखा है वही इन सभी समस्याओं को पत्रकारों के द्वारा जनपद सीईओ से जानकारी मांगी गई तो जनपद सीईओ का कहना है कि मुझे इस विषय में कोई जानकारी नहीं है यह एक चिंतन का विषय बन चुका है तो वही जहां सीसी रोड बनना है वहां की स्थिति को बिना देखे ही 5,00 लाख का चेक जारी कर दिया जाता है यह साफ जाहिर हो रहा है कि केवल मालखरौदा के जनपद सीईओ को अपने परसेंट से ही मतलब है शासन की पैसों को केवल आनन फानन के माध्यम से ही निकाल कर बंदरबांट किया जा रहा है।