breaking news New

वैष्णो देवी के दर्शन को गए जीजा-साले की भगदड़ में मौत, परिवारों में मचा कोहराम, फ्लाइट से आएगी दोनों की डेड बॉडी

 वैष्णो देवी के दर्शन को गए जीजा-साले की भगदड़ में मौत, परिवारों में मचा कोहराम, फ्लाइट से आएगी दोनों की डेड बॉडी

 

कानपुर। वैष्णो देवी मंदिर में शनिवार तड़के मची भगदड़ में कानपुर के भी दो युवकों की मौत हो गई। दोनों रिश्ते में जीजा-साले बताए गए हैं। वैष्णो देवी प्रशासन ने कानपुर जिला प्रशासन को सूचना भेजी है।

बिधनू क्षेत्र के कुरिया गांव निवासी छोटे कुशवाहा (30) अपने साले पनकी निवासी युवक के साथ 29 दिसंबर को वैष्णो देवी दर्शन के लिए कानपुर से रवाना हुए थे। दोनों रिश्ते में जीजा-साले हैं। मोहल्ले के 7 लोग भी एक साथ दर्शन करने गए थे। नए वर्ष की सुबह देवी के दर्शन की योजना के तहत गए थे। परिजनों के मुताबिक सुबह देवी दर्शन के लिए कतारबद्ध थे। मंदिर परिसर तक पहुंच गए थे। अचानक भगदड़ मच गई और दोनों भगदड़ के शिकार हो गए। हादसे के बाद पहचान पत्र के आधार पर वैष्णो देवी प्रशासन ने कानपुर जिला प्रशासन को सूचना भेजी है। सूचना मिलने के बाद डीएम विशाख जी ने एसडीएम के जरिए दोनों परिवारों को सूचना भेजी है। इलाके की पुलिस और राजस्व कर्मचारी भी दोनों परिवारों के घर पहुंच गए हैं। एडीएम सिटी अतुल कुमार ने बताया कि वैष्णो देवी प्रशासन से दुखद सूचना आई है। दोनों परिवारों से संपर्क कर लिया गया है। उच्चाधिकारियों तथा शासन को भी रिपोर्ट भेजी जा रही है।

नरेंद्र का 1 जनवरी को था जन्मदिन 

29 दिसंबर को कानपुर से पनकी गंगागंज भाग-2 मोहल्ले के 7 लोग प्रांशु ठाकुर,शिवम दीक्षित,अजय,कल्लू सविता, महेंद्र कुमार,नरेंद्र कश्यप और राहुल। एक साथ दर्शन करने गए थे। अचानक मची भगदड़ में साला महेंद्र गौर (26) और जीजा नरेंद्र कौशिक (40) की मौत हो गई। वे भगदड़ में अपने आपको संभाल नहीं पाए और भीड़ के पैरों तले दबकर उनकी मौत हो गई। मोहल्ले के उत्कर्ष ने बताया कि जीजा नरेंद्र को 1 जनवरी को जन्मदिन होता है। वे हर साल वैष्णो देवी दर्शन करने जाते थे।


हाल ही में तय हुई थी शादी

महेंद्र पेट्रोल पंप में जॉब करता था। हाल ही में उसकी शादी तय हुई थी, इसको लेकर वो काफी खुश भी था। इसीलिए माता के दर्शन करने गया था। पेशे से किसान नरेंद्र की करीब 6 साल पहले शादी हुई थी। नरेंद्र बिधनू स्थित काकोरी गांव के रहने वाले हैं। उनकी पत्नी जानकी और मां का रो-रोकर बुरा हाल है। नरेंद्र की 4 साल का बेटा निखिल और 3 साल की बेटी जान्हवी है। परिजनों ने खराब आर्थिक हालात को देखते हुए सरकार से मुआवजे की मांग की है। मृतकों के घर पहुंचे एडीएम सिटी अतुल कुमार ने बताया कि जम्मू से फ्लाइट से दोनों की डेड बॉडी को भेजा जा रहा है। बॉडी कब तक आएगी, इसकी कोई जानकारी दी गई है। फ्लाइट लखनऊ एयरपोर्ट पर लैंड करेगी। फ्लाइट में गोरखपुर के मृतक की भी डेड बॉडी भेजी जा रही है।