breaking news New

विश्वविद्यालयों के माध्यम से राष्ट्रीय शिक्षा नीति को धरातल पर उतारना चुनौतीपूर्ण

विश्वविद्यालयों के माध्यम से राष्ट्रीय शिक्षा नीति को धरातल पर उतारना चुनौतीपूर्ण

भोपाल। उच्च शिक्षा विभाग के प्रमुख सचिव अनुपम राजन ने कहा कि राष्ट्रीय शिक्षा नीति के क्रियान्वयन की सफलता इस बात पर निर्भर है कि हम इसे आगे कैसे ले जाते हैं। सभी विश्वविद्यालयों के माध्यम से राष्ट्रीय शिक्षा नीति को धरातल पर उतारना चुनौतीपूर्ण रहेगा।

श्री राजन आज म.प्र. निजी विश्वविद्यालय विनियामक आयोग में प्रदेश के 39 निजी विश्वविद्यालयों में राष्ट्रीय शिक्षा नीति के क्रियान्वयन को लेकर आयोजित कार्यशाला को संबोधित कर रहे थे।

उन्होंने कहा कि मध्यप्रदेश राष्ट्रीय शिक्षा नीति-2020 को लागू करने वाला देश का अग्रणी राज्य है। उन्होंने बताया कि प्रदेश में शिक्षा नीति को लागू करने के लिये उच्च शिक्षा मंत्री मोहन यादव के नेतृत्व में टॉस्क फोर्स का गठन किया गया है। विषय-विशेषज्ञों और विभिन्न विश्वविद्यालयों के कुलपतियों के साथ विचार-विमर्श उपरांत राष्ट्रीय शिक्षा नीति के संकल्पों को समग्रमा से लागू करने का प्रयास किया गया है। हर कॉलेज में नोडल अधिकारी बनाये गये हैं। उन्होंने कहा कि निजी विश्वविद्यालयों में भी राष्ट्रीय शिक्षा नीति लागू करने के लिये आयोजित इस कार्यशाला में नीति में च्वाइस बेस्ड क्रेडिट सिस्टम, अकादमिक संरचना, स्वरूप, क्रेडिट हस्तांतरण एवं प्रबंधन पर विशेष रूप से चर्चा होगी।

मध्यप्रदेश निजी विश्वविद्यालय के अध्यक्ष प्रो. भरत शरण सिंह, सचिव डॉ. के.पी. साहू, सदस्य (अकादमिक) डॉ. प्रदीप श्रीवास्तव, सदस्य (प्रशासनिक) डॉ. विश्वास चौहान तथा मुख्य कार्यपालन अधिकारी म.प्र. निजी विश्वविद्यालय विनियामक आयोग डॉ. ए.एस. यादव उपस्थित थे।