breaking news New

ग्राम केशला मे सरपंच-सचिव ने किया 45 लाख रुपए का घोटाला, जांच टीम को देखकर फरार हुए सरपंच और सचिव: जानिए-क्या है पूरा मामला

ग्राम केशला मे सरपंच-सचिव ने किया 45 लाख रुपए का घोटाला, जांच टीम को देखकर फरार हुए सरपंच और सचिव: जानिए-क्या है पूरा मामला

 हेमन्त मिश्रा/बलौदाबाजार। भाटापारा विकासखंड के ग्राम पंचायत केसला के उप सरपंच एवं पंचों ने सरपंच सचिव पर विभिन्न निर्माण कार्यों के माध्यम से बिना काम किए तकरीबन 45 लाख रुपए की राशि निकालकर  हजम करने का आरोप लगाया था, जिसकी शिकायत जनपद से लेकर कलेक्टर तक की गयी। 

जिस पर संज्ञान लेते हुए जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी फरिहा आलम सिद्दीकी ने जांच के आदेश दिए थे। इसके बाद जनपद पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी द्वारा जांच हेतु 11 नवंबर 2021 को एसडीओ महिलांगे के नेतृत्व मे जांच टीम भेजी गई। इस संबंध में बाकायदा सरपंच एवं सचिव को जांच के दौरान उपस्थित रहने के लिए लिखित में सूचना जारी कर निर्देश दिए गए थे। 

किंतु गबन करने वाले सरपंच सचिव ने जांच के दौरान उपस्थित  रहना मुनासिब नही समझा। जिसके कारण मौके पर पहुंचे जांच अधिकारियों ने शिकायतकर्ता आवेदकों एवं ग्रामीणों का बयान लेकर महज खानापूर्ति कर वापस चले गए। ग्रामीणों का आरोप है कि जांच करने आए जनपद पंचायत के अधिकारी कर्मचारी सरपंच सचिव को बचाने मे लगे है जो कहीं न कही अधिकारियों एवं जनपद के उच्च पद पर पदस्थ जनप्रतिनिधियों की मिलीभगत को दर्शा रहा है।  

उप सरपंच सहित पंचों ने जांच अधिकारियों पर आरोप लगाया है कि उनके द्वारा स्थल निरीक्षण नहीं किया गया। जब कि विभिन्न निर्माण कार्यों के नाम से आहरित की गई राशि के कोई भी काम नहीं हुए हैं। जिसे निरीक्षण करने के उपरांत जांच में उल्लेख करना था। बहरहाल सरपंच एवं सचिव द्वारा निर्माण एवं विकास कार्यों के लिए आई सरकारी राशि का गबन कर लिया है। देखना यह होगा कि जाँच करने गये उच्च अधिकारियों को क्या रिपोर्ट प्रस्तुत कर रहे है तथा सरपंच सचिव सहित इस गबन मे सम्मिलित अधिकारियों पर जिला पंचायत की मुख्य कार्यपालन अधिकारी क्या कार्यवाही करती है।