breaking news New

सेक्युलर ढांचे को ध्वस्त करना चाहती है मोदी सरकार : प्रकाश करात

सेक्युलर ढांचे को ध्वस्त करना चाहती है मोदी सरकार : प्रकाश करात

प्रयागराज।  भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (मार्क्सवादी) के पूर्व महासचिव और पोलित ब्‍यूरो सदस्‍य प्रकाश करात ने कहा कि केन्द्र की नरेन्द्र मोदी सरकार देश के सेक्युलर और संघीय ढांचे को समाप्त करने पर आमादा है।

कामरेड करात ने शनिवार को पार्टी के 23वें राज्य सम्मलेन के उद्घाटन सत्र को सम्बोधित करते हुए कहा कि मोदी सरकार देश के सेक्युलर और संघीय ढांचे को समाप्त करने पर आमादा है। केन्द्र सरकार आज उस न्यू इंडिया के निर्माण में लगी है, जिसमें हिंदुत्व और कारपोरेट का गठजोड़ है।

पूर्व महासचिव ने “आज का दौर और महात्मा गांधी’’ विषयक गोष्ठी में कहा कि पांच अगस्त 2019 तथा 5 अगस्त 2020 की तिथियां भारत के संघीय और सेक्युलर ढांचे को ध्वस्त करने वाली तिथियां सिद्ध हुईं, जब जम्मू-कश्मीर को तीन टुकड़ों मे बांट दिया गया। साथ ही राम मंदिर का शिलान्यास प्रधानमंत्री द्वारा किया गया।

पार्टी राज्य सचिव मण्डल सदस्य कामरेड रवि मिश्र ने बताया कि माकपा का तीन दिवसीय राज्य सम्मेलन चार अक्टूबर को समाप्त होगा। वर्ष 2005 के बाद यह कार्यक्रम यहां दूसरी बार आयोजित किया गया है। यह आयोजन प्रयागराज में पार्टी तथा वामपंथी-जनवादी आन्दोलन को और मजबूत करने में एक महत्वपूर्ण भूमिका का निर्वहन करेगा। कार्यक्रम के समापन दिवस पर महासचिव सीताराम येचूरी उपस्थित रहेंगे।

सम्मेलन में पार्टी के पूर्व महासचिव तथ पोलित ब्यूरो सदस्य प्रकाश करात, पार्टी की पोलित ब्यूरो सदस्य तथा पूर्व सांसद सुभाषिनी अली, पार्टी के केंद्रीय कमेटी सदस्य जेएस मजूमदार तथा पार्टी राज्य सचिव हीरालाल यादव ने उपस्थित लोगों को सम्बोधित किया। पोलित ब्यूरो सदस्य सुभाषिनी अली सम्मेलन के तीनों दिन उपस्थित रहेंगी।